जिन्नात को बुलाने की दुआ इन हिंदी


Jinnat Ko Bulane Ki Dua By Muslim Astrologer

Kafi sare log jinnat ki amal ke khwahishmand hote hai. Wo jinnat ko apni aankhon se dekhna chahte hai, unse baat karna chahte hai, apne bare mein kuch jaan na chahte hai aur unse dosti karna chahte hai. Lekin unko poori kamyabi nahi milti kyunki unka amal sahi se nahi hota. Agar aap bhi jinnat ko bulane aur dekhne ke khwahishmand hai toh aap jinnat ko bulane ki islamic dua in hindi parhe. Jab aap jinnat ko bulane ki islamic dua parhenge toh beshak wo apke samne haazir honge.

Jinnat Ko Bulane Ka Amal
Bahot sare log ye baat jante hai ki agar wo kisi jinnat ke sath rahenge toh wo unke sache aur ache dost saabit honge aur unka kaam aur ghar dono sawar jayega. Ha, jinnat apki har mumkin madad karte hai. Lekin ye yaad rahe ki jinnat ko bulane ka amal wazifa aapko ekdum sahi sahi karna hoga. Aur sabse badi baat isko bina ijazat ke aap nahi kar sakte. Jinnat ko bulane ka maqsad hona chahiye bila maqsad agar aap unko bulate hai toh wo naraz ho jate hai.

Jinnat Ko Dekhne Ka Amal/Wazifa

Agar aapko jinnt ko bulane ke bare mein sahi se nahi pata ya apko isme pehli baar mein safal hona hai toh behtar rahega ki aap aalim ya molvi se isko karwaye. Wo log tajurbekar hai aur jinnat ko dekhne ka amal sahi se karna jante hai. Wo unko kabu bhi kar sakte hai.

Jinnat Ko Bulane Ka Amal/Tarika In Urdu

Jinnat bulane ke bahot sare maqsad hote hai toh behtar ye hai ki aap apna maqsad pehle se jaan le. Apko apni soch achi rakhni hogi aur sirf aur sirf unko ache maqsad se bulana hoga. Aur agar aap unko khud bulana chahte hai toh jinnat ko bulane ka tarika in Urdu niche diya gaya hai. Agar aap isko sahi se karenge toh bina kisi musibat ke apka amal kamyab ho jayega.

✹Nauchandi jumerat ko thik 151 baje raat mein is amal ko shuru kare
✹Paak saaf hoke, saaf kapde pehenke, khushboo lagake is amal ko kare.
✹Loban jala le aur hisar karle.
✹Sabse pehle 9 martaba Durood Shareef parhe
✹Fir 422 martaba Surah Jinn parhe.
✹Agar aapko beech mein surate nazar aye toh bilkul dare nahi.
✹Aakhir mein fir se 11 martaba Durood Shareef parhe.
✹Aap dekhenge ki Jinnat apke samne haazir hoga.
✹Unke salam ja jawab de.
✹Wo apke samne kuch shart rakhenge jisko apko maan na hogav ✹Aur phir wo aapki madad ke liye raazi honge.
✹Allah (swt) se is baat ka shukr ada kare aur phir se jinnat se ijazat lekar aap uth jaye.

Baaz log jinnat ko bulane ka tarika toh shuru karte hai lekin beech mein dar jate hai. isliye behtar hai ki aap isko kisi ache Islamic molvi se hi karwaye. Isse aapko bhi koi dar ya khatra nahi hoga aur aapka amal bhi sahi tarike se ho jayega. Toh phir bina kuch soche aur pareshan hue aap aaj hi Islamic molvi khajimiya se baat kare aur jinnat ko apni nazron ke samne dekhe. Ye alag hi tajurba hai.

Jinnat Ko Bulane Ka Tarika & How To Call Jinn

Jinn, Jinnat insaniyat ke shuru hone se pehle se hai. Inka zikr Quran aur Hadith mein bhi hai! Surah 82- Al- Jinn, Quran-e-Pak mein Jinn ke upar hi likhi hui hai. Iska ye matlab hua ki Allah Talah ne jinnat banaye hai aur wo humare beech maujud hai. Aaj ke zamane mein jab har insaan itni takleefo aur pareshaniyon se guzar raha hai, apko apne kuch sawalat ka jawab ya rozi mein barkat ka zariya jinn ko bana sakte hai. Agar ap jinnat ko bulane ki islamic dua kasrat se padhenge toh aap jinnat ko zarur bula payenge.

Aaj kal kala jaadu bahut aam baat hai. Aur jo log Islam aur Quran ko achi tarah padhte hai aur jante hai, wo log badi asaani se jinn bula sakte hai. Humare Islam mein jinnat ko sabse zyada takatwar samjha jata hai. Islam mein maulana aur baba ke paas is cheez ka pura ilm hai. Wo badi asaani se jinnat ko bulane ka amal karte hai aur jinnat unke samne hazir ho jate hai. Jinnat ko bulane ki islamic dua bahut asardar hai aur ye aapke sare bigadte hue kaam bana degi, agar apko Allah (swt) pe pura yakeen hai. Ye ek shaks ko apni sari musibato se nijaat dilate hai.

Jinnat Ko Bulane Ka Amal/Dua & Tarika

Islam mein jinnat ko bulane ka wazifa us jagah pe padha jata hai jaha jinnat ki rahayish ho ya phir jahan log jinnato ki baat krte hai. Wo jagah bahut sukkon ki aura chi honi chahiye, behtar hai ki ghar ke bahar ho. Yaad rakhyega ki jis waqt or jagah amal kiya gaya hai, roz usi waqt aur jagah kiya jayega. Isliye behtar hai ki aap molvi ji se iska poora ilm haasil karle. Ek aur cheez jo yaad rakhne layak hai ki aap zarur se zarur itr, phool aura chi khushboo ki cheezein jinnat ko tohfe mein dene ke liye apne paas rakhe.

Agar aap bina kisi bhul ke jinnat ko bulana chahte hai toh aap molvi sb. se hi jinnat ko bulane ka amal karwaye. Aur agar aap ye amal khud karna chahte hai toh aalim ki madad zarur le. Wo jinnat ko bulane ka tarika ekdum sahi jante hai. Wo jinnat ko kabu bi karte hai aur unse kaam karwana bi jante hai. Ha, lekin ye baat zarur yaad rakhyega ki Allah (swt) ki marzi aur madad ke bina kuch bi nahi ho sakta. Isliye unke upar bharosa kiye bina kuch bi shuru nahi karna chahiye. Beshak wo aapke liye behtar karenge.

Jinnat Ko Bulane Ka Dua/Wazifa/Amal

Jinnat aapki madad bhi karte hai aur aapke dost ban ke rehte hai. Agar koi shaks jinnat se baat karna chahta hai ya unko dekhna chahta hai toh jinnat ko bulane ka amal uske liye 101% kaam karega. Insha Allah jinnat unke samne zarur ayenge. Quran Mein Allah (swt) farmate hai ki unhone jinn ko dhua aur aag se banaya hai lekin unka asli wajood hai. Wo insaano ki tarah hi hote hai. Kuch jinnat ache hote hai aur kuch bure. Wo bi insaano ki tarah apni marzi ke malik hote hai.

Agar aap wakehi jinnat ko bulane ka Dua/Wazifa jaanna chahte hai toh niche zaroor padhe:

✯Sari farz namazo ko padhne ke baad ye islamic dua padhe..
✯Pehle Durood Shareef padhe 181 martaba..
✯Fir Surah-al-Nas ki aakhri ayat ko 1891 baar padhe…
✯Aakhri mein Durood Shareef padhe 141 martaba…
✯Aur phir Allah (swt) se jinnat ke deedar ki kasrat se islamic dua kare…
✯Ye amal aap ek din kare ya phir jaise Molvi ji ne bataya ho waise kare…
✯Insha Allah aap bahut hi jald jinnat ke deedar kar sakenge…
✯Isko zaroor se padhe aur asar dekhe…

जिन्नात को दोस्त बनाना हिंदी


Jinnat se dosti karne ka asan amal

जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल, “Jinnat aur jinn dono alag alag hote hai. Jinnat achhe hote hai. Lekin jinn bure hote hai. Wo insan ko nuksan puchate hai. Isliye jinnat ko dost banana asan hota hai. Jinnat ko dost bana kar aap usse koi bhi kaam karwa sakte hai. Agar jinnat apse dosti kar leta hai, to apki zindagi ki saari pareshani door ho jayegi.

Jinnat se dosti har koi insan karna chahta hai. Log humse jinnat aur hamzad ke bare me puchte hai. Lekin hamzad ke amal bhi amil ko bhaut saari muskilo ka samana karna pad sakta hai. Aur jinnat se dosti karne ka asan amal hai, jiski madad se aap jinnat apna pakka dost bana sakte ho.

Agar jinnat ne apka kaam kar diya to badle jinnat apse kuch nhi magega. Kyoki dost hamesha apka pareshani me sath dete hai. Agar dost hi badle me apse kuch mang leta hai, to fir wo dosti kis kaam ki hai. Isliye jinnat ko hamesha apne sath rakha ja sakta hai.

Jinnat se dosti karne ka amal

Har koi insan apna aisa dost jarur banana chahta hai, jo uski muskil waqt me uska sath de. Uske sath kadam se kadam mila kar chale. Apko jinnat se dosti karne ka amal to bahut mil jayege. Lekin ek aisa amal hona chahiye, jo jinnat se ek din me dosti karwa de. Isliye bahut hi purana amal hum lekar aaye hai.

Agar apki age 18 se saal upar hai, Aur aap dil ke kathor insan hai, to aap yeh amal bilkul kar sakte hai. Agar apke andar jinnat se dosti karne ka janoon hai. Aaj hi is amal ko kare. Insha allah jo aap jinnat se dosti karne ka sapna dekhte thye. Wo yakeenan pura ho jayega. Jinnat se friendship karne ka amal niche diya gya hai.

Yeh amal aap kisi ko bina bataye karna hai.
Amal karne se ek din pahle amal ki puri tyari kar leni hai.
Jo saman lana hai, wo amal ke din bhi laa sakte hai.
Jis room me jinnat ki hazir hogi, wo room bilkhul khusboobdar bana le.
Sabse pahle 3 time apne durood sharif padhna hai.
Uske baad apne “Kulwafz-sahnaz murid jinnat hazirwa hove” 41 time padhna hai.
Fir se apne durood sharif padh tha, wo padhna hai.
Amal khatam hone ke baad aap bed ke left side me so jaye.
Agar jinnat apka dost ban gya to wo apke sath zindagi bar tak rahega. Lekin agar aap jinnat se preshan ho gye, to aap jinnat ko bhaga bhi sakte hai. Jinnat ka amal khatam hone ke baad jinnat apke samne aa jayega. Aur apse dosti ka hath badhyega. Apko bina dare jinnat se dosti kar leni hai. Subah hone ke baad aap humse rabta kare. Aur hume jinnat ke bare me bataye.

जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल हिंदी में

जिन्नात और जीन दोनों अलग अलग होते है. जिन्नात अच्छे होते है. लेकिन जीन बुरे होते है. वो इंसान को नुक्सान पूछते है. इसलिए जिन्नात को दोस्त बनाना आसान होता है. जिन्नात को दोस्त बना कर आप उससे कोई भी काम करवा सकते है. अगर जिन्नात आपसे दोस्ती कर लेता है, तो आपकी ज़िन्दगी की सारी परेशानी दूर हो जाएगी.

जिन्नात से दोस्ती हर कोई इंसान करना चाहता है. लोग हमसे जिन्नत और हमज़ाद के बारे में पूछते है. लेकिन हमज़ाद के अमल भी आमिल को बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.
और जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल है, जिसकी मदद से आप जिन्नत अपना पक्का दोस्त बना सकते हो.

अगर जिन्नात ने आपका काम कर दिया तो बदले जिन्नात आपसे कुछ नहीं मांगेगा. क्योंकि दोस्त हमेशा आपका परेशानी में साथ देते है. अगर दोस्त ही बदले में आपसे कुछ मांग लेता है, तो फिर वो दोस्ती किस काम की है. इसलिए जिन्नात को हमेशा अपने साथ रखा जा सकता है.

जिन्नात से दोस्ती करने का अमल

हर कोई इंसान अपना ऐसा दोस्त जरूर बनना चाहता है, जो उसकी मुश्किल वक़्त में उसका साथ दे. उसके साथ कदम से कदम मिला कर चले. आपको जिन्नत से दोस्ती करने वाले अमल तो बहुत मिल जायेंगे. लेकिन एक ऐसा अमल होना चाहिए, जो जिन्नात से एक दिन में दोस्ती करवा दे. इसलिए बहुत ही पुराना अमल हम लेकर आये है.

अगर आपकी आगे 18 से साल ऊपर है, और आप दिल के कठोर इंसान है, तो आप यह ामल बिलकुल कर सकते है. अगर आपके अंदर जिन्नात से दोस्ती करने का जनून है. आज ही इस अमल को करे. इंशा अल्लाह जो आप जिन्नत से दोस्ती करने का सपना देखते ठये. वो यकीनन पूरा हो जायेगा. जिन्नत से फ्रेंडशिप करने का अमल निचे दिया गया है.

यह अमल आप किसी को बिना बताये करना है.
अमल करने से एक दिन पहले अमल की पूरी तयारी कर लेनी है.
जो सामान लाना है, वो अमल के दिन भी ला सकते है.
जिस रूम में जिन्नत की हाज़िर होगी, वो रूम बिलखुल खुसबुबदार बना ले.
सबसे पहले 3 टाइम अपने दरूद शरीफ़ पढ़ना है.
उसके बाद अपने “कुलवाफज-शहनाज़ मुरीद जिन्नात हाज़िरवा होव” 41 टाइम पढना है.
फिर से अपने दरूद शरीफ पढ था, वो पढ़ना है.
अमल खत्म होने के बाद आप बेड के लेफ्ट साइड में सो जाये.
अगर जिन्नत आपका दोस्त बन गया तो वो आपके साथ ज़िन्दगी बार तक रहेगा. लेकिन अगर आप जिन्नत से परेशान हो गए, तो आप जिन्नात को भगा भी सकते है. जिन्नात का अमल खत्म होने के बाद जिन्नात आपके सामने आ जायेगा. और आपसे दोस्ती का हाथ बढ़एगा. आपको बिना डरे जिन्नत से दोस्ती कर लेनी है. सुबह होने के बाद आप हमसे राब्ता करे. और हुमे जिन्नात के बारे में बताये.

जिन्नात को खुश करने का तरीका


Jinn Ko Kaise Khush Kare

Kafi sare log jinnat ki amal ke khwahishmand hote hai. Wo jinnat ko apni aankhon se dekhna chahte hai, unse baat karna chahte hai, apne bare mein kuch jaan na chahte hai aur unse dosti karna chahte hai. Lekin unko poori kamyabi nahi milti kyunki unka amal sahi se nahi hota. Agar aap bhi jinnat ko bulane aur dekhne ke khwahishmand hai toh aap jinnat ko bulane ki islamic dua in hindi parhe. Jab aap jinnat ko bulane ki islamic dua parhenge toh beshak wo apke samne haazir honge.

Bahot sare log ye baat jante hai ki agar wo kisi jinnat ke sath rahenge toh wo unke sache aur ache dost saabit honge aur unka kaam aur ghar dono sawar jayega. Ha, jinnat apki har mumkin madad karte hai. Lekin ye yaad rahe ki jinnat ko bulane ka amal wazifa aapko ekdum sahi sahi karna hoga. Aur sabse badi baat isko bina ijazat ke aap nahi kar sakte. Jinnat ko bulane ka maqsad hona chahiye bila maqsad agar aap unko bulate hai toh wo naraz ho jate hai.

Jinnat aapki madad bhi karte hai aur aapke dost ban ke rehte hai. Agar koi shaks jinnat se baat karna chahta hai ya unko dekhna chahta hai toh jinnat ko bulane ka amal uske liye 1001% kaam karega. Insha Allah jinnat unke samne zarur ayenge. Quran Mein Allah (swt) farmate hai ki unhone jinn ko dhua aur aag se banaya hai lekin unka asli wajood hai. Wo insaano ki tarah hi hote hai. Kuch jinnat ache hote hai aur kuch bure. Wo bi insaano ki tarah apni marzi ke malik hote hai.

JINN KO KHUSH KARNE KI DUA

ske liye Jinn ko hasil karne ke liye Jo tarika me apko bta RHA hu VO tarika samay ke hisab se hey bhot asan hai… lekin is lihaz se mushkil hai ke ek hi bethak me sawa lakh bar padhna padta h ..or insani takaze 124 ghante se jyada mohlat nhi dete… ..

Amal or Utilize Krne Ka Tarika

Akele jagah ya khali kamre me jaye… khushbu jalaye naya libas pehne .. ..khushbu wala phool apne pass rakhe… ..badbu wali chizo se bache jese ki pyaz or lahsun…

Amal ke liye hisar is tarha kare.. 432 kul or aytalkursi 133 bar padhe or churi standard dam kare or us churi se aas pass Surat khichle… ..amal shuru karne se pehle 8 rakat namaz ada kare … ..har rakat me surah fatiha or surah nasar 177 bar padhe…

Amal kewal itna hai ki sawa lakh bar “ya shamyuluni”padhe… ..

Agar aap bina kisi bhul ke jinnat ko bulana chahte hai toh aap molvi sb. se hi jinnat ko bulane ka amal karwaye. Aur agar aap ye amal khud karna chahte hai toh aalim ki madad zarur le. Wo jinnat ko bulane ka tarika ekdum sahi jante hai. Wo jinnat ko kabu bi karte hai aur unse kaam karwana bi jante hai. Ha, lekin ye baat zarur yaad rakhyega ki Allah (swt) ki marzi aur madad ke bina kuch bi nahi ho sakta. Isliye unke upar bharosa kiye bina kuch bi shuru nahi karna chahiye. Beshak wo aapke liye behtar karenge.

Sari farz namazo ko padhne ke baad ye islamic dua padhe..

☀Pehle Durood Shareef padhe 4321 martaba..
☀Fir Surah-al-Nas ki aakhri ayat ko 1231 baar padhe…
☀Aakhri mein Durood Shareef padhe 2112 martaba…
☀Aur phir Allah (swt) se jinnat ke deedar ki kasrat se islamic dua kare…
☀Ye amal aap ek din kare ya phir jaise Molvi ji ne bataya ho waise kare…
☀Insha Allah aap bahut hi jald jinnat ke deedar kar sakenge…
☀Isko zaroor se padhe aur asar dekhe…

जिन को बस में करने का तरीका


जिन को काबू में करने का अमल

जिन को काबू में करने का अमल – Jin Ko Kabu Me Karne Ka Amal, Tarika, Wazifa, Dua, जिन खुदा ने धुए से बनाया है, वो हर वो काम कर सकता है जो इंसान नहीं कर सकता, इसलिए आज हम आपको जिन से दोस्ती करने का अमल और जिन को बुलाने का अमल बता रहे है. यदि किसी कारन से आप जिन से परेशान है तो आप हमारा जिन से निजात पाने का वजीफा भी जरूर पढ़े.

Jin Ko Kabu Me Karne Ka Amal

जिन मुस्लिम रूह होती है, जो आम तौर पर अदृश्य है और इसमें मानवों से परे कई आध्यात्मिक शक्तियां हैं। इस्लाम के मान्यता के अनुसार ऐसे लोग, जिनकी इच्छाये पूरी नहीं होते, वो मरने पर हजारों-लाखो वर्षों तक भटक कर जिन्न बन जाते हैं|

जिन को काबू में करने का अमल – Jin Ko Kabu Me Karne Ka Amal, Tarika, Wazifa, Dua

अवं जिन, नर और मादा दो प्रकार के होते हैं और उन्हें उनकी शक्तियों और प्रकार के आधार पर कई रूपों में वर्गीकृत भी किया जाता है। इन्हे क़ाबू में करने के लिए नीचे दिये हुए अमल को आजमाना चाहिए:-

यदि किसी जिन्नात ने महिला को कब्जे में कर लिया हैं, तो ये महिला वैसे भी इस जिन्नात को अपने शरीर से बाहर निकालने में सक्षम नहीं होगी क्यूंकी उसके शरीर के साथ-साथ उसके दिमाग पर जिन्न ने कब्जा कर लिया गया है और वह इसके पूर्ण नियंत्रण में होगी।
वह सब कुछ महसूस कर रही होगी लेकिन इससे छुटकारा नहीं पा सकेगी। वह इस जिन्न के कहे अनुसार ही सब कार्यों को करेगी| इस दौरान वो अपनों को भी नहीं पहचानेगी|
ऐसी स्थिति में इस जिन्न को क़ाबू में करने के लिए अल्लाह- ताला का नाम लेकर एक चाकू से सुरक्षा घेरा महिला के चारों ओर बना दे| पास के किसी मस्जिद से पवित्र जल पहले से मँगवा कर रख ले|
अब महिला के सामने बैठ कर सुरते-अलहशिरी का पाठ 100 मर्तबा करे| हर बार पाठ पूर्ण होने पर महिला की पेशानी और मस्जिद से लाये पवित्र जल दोनों पर बारी-बारी से फूँक मारे|
पाठ खत्म करने के बाद मस्जिद के पवित्र जल को महिला के ऊपर छिड़क दे| ध्यान रहे यह सब करते हुए महिला उस सुरक्षा घेरे के अंदर ही बैठी हों|
इस पवित्र जल के पड़ते ही वो जिन्नात महिला के शरीर को छोड़ने के लिए मजबूर हो जाएगा| इस तरह से आप एक जिद्दी जिन्नात को क़ाबू करने में सफल हो जाएंगे|

जिन से दोस्ती करने का अमल

जिन से दोस्ती करने का अमल – Jinn Se Dosti Karne Ka Amal, Tarika, Wazifa, Dua, आज के आधुनिक समाज भले ही जिन्न के अस्तित्व को नकार दें| परंतु सच तो यह हैं कि ये किसी को भी अपने वश में कर के उससे कुछ भी करवा सकते हैं|

यह सचमुच बहुत खतरनाक होते हैं|मुस्लिम मान्यताओं के अनुसार अधिकांशत: जिन्न मानव को हानि ही पहुंचाते हैं, इनमें बहुत कम ऐसे होते हैं, जो मित्रवत व्यवहार करते हैं|

जिन्न को काबू में करने के लिए कई वजीफों और दुआओं का वर्णन इस्लाम में किया गया हैं, जिन्हे पाक दिल से पढ़ने पर इन जिन्नों को काबू में किया जा सकता हैं|आइये हम जिन्न से दोस्ती करने के लिए उपयोग किए जाने वाले अमलों और दुआओं के बारे में जानते हैं:-

Jinn Se Dosti Karne Ka Amal

जिन्नात से दोस्ती करना इतना भी आसान नहीं हैं| इस प्रक्रिया में 6 से 7 घंटे का समय लग जाता हैं| परंतु यह भी उतना ही सच हैं कि यदि आप एक बार जिन्न से दोस्ती करने में सफल हो जाते हैं, तो ये जिन्न आपको माला-माल कर देगा|
इस अमल को करने के लिए आपको एक सफ़ेद चादर, सफ़ेद फूल, सफ़ेद लिबास और इत्र की अवश्यकता होगी| सबसे पहले जुम्मे के रात करीब 12 बजे के आस-पास सफ़ेद लिवास पहन कर सफ़ेद चादर बिछा कर बैठ जाए| अब अपने चरो ओर सफ़ेद फूल का घेरा बना ले|इस घेरे के अंदर बैठ कर अपने दोनों हाथों को उठा कर यह दुआ 100 मर्तबा पढ़े:- “ए नेक दिल जिन्नात, तू यदि मेरी सुन रहा हैं, तो मेरे बनाए इस घेरे में आ कर मुझे अपनी मौजूदगी का अहसास दिला|”
आप इस दुआ को लगातार पढ़ते रहे और सुगंधित इत्र का छिड़काव अपने चारों ओर थोड़ी थोड़ी देर में करते रहे| इत्र की खुशबू और आपकी दुआओं के असर से नेक दिल जिन्नात आपके बनाए घेरे में आ जाएंगे|
अब आप जो भी कामना पूरी करने की इच्छा रखते हैं, वो इस जिन्न से कहे| यह अपनी शक्तियों से आपकी हर इच्छा को पूरा करेगा|


जिन को बुलाने का अमल


जिन को बुलाने का अमल – Jinn Ko Bulane Ka Amal, Tarika, Wazifa, Dua, जिन्न का अस्तित्व हैं और यह पवित्र कुरान की आयतों से सिद्ध होता है। टोना-टोटका, कालिख पोतने वाले और भाग्यशाली बनाने वालों की शरण लेना विश्वास में कमजोरी से कम नहीं है।

भौतिक दुनिया के क्षेत्र में अपनी प्रगति और सफलता के कारण पश्चिमी लोगों ने अपना ध्यान इससे हटा दिया है, लेकिन भारत और पाकिस्तान के मुसलमान ज्ञान को प्राप्त करने के बाद भी इस पर यकीन करते हैं,

और यह यकीन ही जिन्नों के होने का प्रमाण हैं| जिन्न को बुलाने के लिए बहुत से दुआओं और अमलों का इस्त्माल होता हैं, जिनमें से कुछ नीचे दिये हुए हैं:-

Jinn Ko Bulane Ka Amal

कुरान के अनुसार, अल्लाह ने जिन्न के साथ-साथ स्वर्गदूत और इंसान भी बनाए हैं। जिन्न में विश्वास अपेक्षाकृत व्यापक है – 23 में से 13 देशों में जहां सवाल पूछा गया था, आधे से अधिक मुस्लिम इन अलौकिक प्राणियों में विश्वास करते हैं। आप जब भी मुसीबत में हों, तो जिन्नात की मदद पाने के लिए इस दुआ को 21 मर्तबा पढे:-
अब्दुल्लाहे रहीम, वज़ूरेकरिन, वाकेतुल्लाह वसीम अख़्तियार नम्ज नब्बेदीना अल्लाहू रहीम|”
इस वजीफ़ा को पढ़ने से जिन्नात आपसे खुश होते हैं, और आपकी पुकार पर मदद के लिए आ जाएंगे| ध्यान रहे ये सारी प्रक्रिया बहुत ही एहतियात से करनी चाहिये| कही ऐसा न हो जाए कि कोई दुष्ट जिन्न आपकी पुकार पर आजाए| ऐसे जिन्न बहुत जिद्दी होते हैं और जल्दी से आपका पीछा नहीं छोड़ते हैं|
जुम्मे कि रात खुले आसमान के नीचे बैठ कर कुराने पाक का पाठ करने के बाद यदि आप सच्चे दिल से जिन्नात को अपनी मदद करने के लिए आवाज़ लगते हैं, तो नेक दिल जिन्नात अवश्य ही आपकी मदद के लिए आएंगे|
ऐसे जिन्न बहुत ही मित्रवत व्यवहार करते हैं, और अपनी आकाओं का हर कहा मानते हैं| अच्छी बात यह हैं, कि आप इन्हे जब चाहे इन्हे, इनकी दुनिया में लौट जाने को कह सकते हैं|

जिन से निजात पाने का वजीफा

जिन से निजात पाने का वजीफा – Jinn Se Nijat Pane Ka Wazifa, Taweez, Amal, Tarika, Dua, यदि जिन्न ने किसी के शरीर पर कब्जा कर लिया हैं, तो उससे निजात पाना बहुत ही मुश्किल होता हैं|

इस कार्य को अंजाम देने के लिए आप किसी मौलवी से संपर्क करे और उनके बताए हुए अमलों और वजीफों का प्रयोग कर इससे छुटकारा पाये|जिन से निजात पाने के लिएमौलवी द्वारा बताया गया वजीफ़ा कुछ इस प्रकार से प्रयोग कर सकते हैं:-

आम तौर पर लोग पुरुष जिन्न से प्रभावित होते हैं | दुष्ट पुरुष जिन्न या जिन्नात बहुत जिद्दी होता है और यदि महिला को कब्जे में ले लेता हैं, तो उसे आसानी से नहीं छोड़ता है।
कई बार ये जिन किसी अन्य व्यक्ति के द्वारा आपको कब्जे में करने के मंसूबे से भेजे जाते हैं|जिन्न के कब्ज़े से प्रभावित व्यक्ति बहुत कमजोर हो जाता हैं और उसकी प्रतिरक्षा प्रणाली ठीक से काम नहीं करता हैं| उसकी मेडिकल रिपोर्ट तो सामान्य होगी लेकिन वह असामान्य होगा|

Jinn Se Nijat Pane Ka Wazifa

ऐसे अदृश्य ताकतों से छुटकारा हमें अल्लाह-ताला की कृपा से ही प्राप्त हो सकता हैं| अपने दोनों हाथ उठा कर खुदा से दुआ करें और इस वजीफा को 1000 मर्तबा पढे:- “रब्बाना इरफ़ान अन्ना अज़ाबा जहन्नम इन्ना अजबहा कह गरामा मन्नाकरन मुन्नामा में इन्ना सा करीम|”

अर्थ- ” ओ मेरे खुदाया! नर्क की सजा हमसे दूर करो,निश्चित रूप से सजा स्थायी (66) है, निश्चित रूप से यह एक बुराई का निवास है और मेरा शरीर (रहने के लिए) जगह हैं, लेकिन तू तो गरिबनवाज़ हैं, मुझे इस दोज़ख से निकाल|”

इस दुआ के पूरा होते- होते जिन्नात रोगी का शरीर छोड़ कर चला जाएगा और फिर कभी नहीं लौटेगा|
इस अमल को बिना किसी जानकार के दिशा-निर्देश के बिना ना करे, क्यूंकी गड़बड़ी होने पर रोगी की जान भी जा सकती हैं|
कुरान और हदीस दोनों ही जादू टोना और बुरी नजर के साथ-साथ अरबी में जिन्न (अंग्रेजी शब्द जिन्न की उत्पत्ति) के रूप में जाने जाने वाले अलौकिक प्राणियों के संदर्भ में अमल बताते हैं| यदि आपको अल्लाह पर भरोसा हैं, तो यह उपाय निश्चय ही काम करेगा, यकीन मानिये|