जिन से दोस्ती करने का तरीका


Jinnat se dosti karne ka asan amal | जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल, “Jinnat aur jinn dono alag alag hote hai. Jinnat achhe hote hai. Lekin jinn bure hote hai. Wo insan ko nuksan puchate hai. Isliye jinnat ko dost banana asan hota hai. Jinnat ko dost bana kar aap usse koi bhi kaam karwa sakte hai. Agar jinnat apse dosti kar leta hai, to apki zindagi ki saari pareshani door ho jayegi.

Jinnat se dosti har koi insan karna chahta hai. Log humse jinnat aur hamzad ke bare me puchte hai. Lekin hamzad ke amal bhi amil ko bhaut saari muskilo ka samana karna pad sakta hai. Aur jinnat se dosti karne ka asan amal hai, jiski madad se aap jinnat apna pakka dost bana sakte ho.

Agar jinnat ne apka kaam kar diya to badle jinnat apse kuch nhi magega. Kyoki dost hamesha apka pareshani me sath dete hai. Agar dost hi badle me apse kuch mang leta hai, to fir wo dosti kis kaam ki hai. Isliye jinnat ko hamesha apne sath rakha ja sakta hai.

Jinnat se dosti karne ka amal

Har koi insan apna aisa dost jarur banana chahta hai, jo uski muskil waqt me uska sath de. Uske sath kadam se kadam mila kar chale. Apko jinnat se dosti karne ka amal to bahut mil jayege. Lekin ek aisa amal hona chahiye, jo jinnat se ek din me dosti karwa de. Isliye bahut hi purana amal hum lekar aaye hai.

Agar apki age 18 se saal upar hai, Aur aap dil ke kathor insan hai, to aap yeh amal bilkul kar sakte hai. Agar apke andar jinnat se dosti karne ka janoon hai. Aaj hi is amal ko kare. Insha allah jo aap jinnat se dosti karne ka sapna dekhte thye. Wo yakeenan pura ho jayega.

Jinnat se friendship karne ka amal niche diya gya hai.

  • Yeh amal aap kisi ko bina bataye karna hai.
  • Amal karne se ek din pahle amal ki puri tyari kar leni hai.
  • Jo saman lana hai, wo amal ke din bhi laa sakte hai.
  • Jis room me jinnat ki hazir hogi, wo room bilkhul khusboobdar bana le.
  • Sabse pahle 3 time apne durood sharif padhna hai.
  • Uske baad apne “Kulwafz-sahnaz murid jinnat hazirwa hove” 41 time padhna hai.
  • Fir se apne durood sharif padh tha, wo padhna hai.
  • Amal khatam hone ke baad aap bed ke left side me so jaye.
  • Agar jinnat apka dost ban gya to wo apke sath zindagi bar tak rahega. Lekin agar aap jinnat se preshan ho gye, to aap jinnat ko bhaga bhi sakte hai. Jinnat ka amal khatam hone ke baad jinnat apke samne aa jayega. Aur apse dosti ka hath badhyega. Apko bina dare jinnat se dosti kar leni hai. Subah hone ke baad aap humse rabta kare. Aur hume jinnat ke bare me bataye.

जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल हिंदी में

जिन्नात और जीन दोनों अलग अलग होते है. जिन्नात अच्छे होते है. लेकिन जीन बुरे होते है. वो इंसान को नुक्सान पूछते है. इसलिए जिन्नात को दोस्त बनाना आसान होता है. जिन्नात को दोस्त बना कर आप उससे कोई भी काम करवा सकते है. अगर जिन्नात आपसे दोस्ती कर लेता है, तो आपकी ज़िन्दगी की सारी परेशानी दूर हो जाएगी.

जिन्नात से दोस्ती हर कोई इंसान करना चाहता है. लोग हमसे जिन्नत और हमज़ाद के बारे में पूछते है. लेकिन हमज़ाद के अमल भी आमिल को बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.
और जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल है, जिसकी मदद से आप जिन्नत अपना पक्का दोस्त बना सकते हो.

अगर जिन्नात ने आपका काम कर दिया तो बदले जिन्नात आपसे कुछ नहीं मांगेगा. क्योंकि दोस्त हमेशा आपका परेशानी में साथ देते है. अगर दोस्त ही बदले में आपसे कुछ मांग लेता है, तो फिर वो दोस्ती किस काम की है. इसलिए जिन्नात को हमेशा अपने साथ रखा जा सकता है.

जिन्नात से दोस्ती करने का अमल

हर कोई इंसान अपना ऐसा दोस्त जरूर बनना चाहता है, जो उसकी मुश्किल वक़्त में उसका साथ दे. उसके साथ कदम से कदम मिला कर चले. आपको जिन्नत से दोस्ती करने वाले अमल तो बहुत मिल जायेंगे. लेकिन एक ऐसा अमल होना चाहिए, जो जिन्नात से एक दिन में दोस्ती करवा दे. इसलिए बहुत ही पुराना अमल हम लेकर आये है.

अगर आपकी आगे 18 से साल ऊपर है, और आप दिल के कठोर इंसान है, तो आप यह ामल बिलकुल कर सकते है. अगर आपके अंदर जिन्नात से दोस्ती करने का जनून है. आज ही इस अमल को करे. इंशा अल्लाह जो आप जिन्नत से दोस्ती करने का सपना देखते ठये. वो यकीनन पूरा हो जायेगा. जिन्नत से फ्रेंडशिप करने का अमल निचे दिया गया है.

  • यह अमल आप किसी को बिना बताये करना है.
  • अमल करने से एक दिन पहले अमल की पूरी तयारी कर लेनी है.
  • जो सामान लाना है, वो अमल के दिन भी ला सकते है.
  • जिस रूम में जिन्नत की हाज़िर होगी, वो रूम बिलखुल खुसबुबदार बना ले.
  • सबसे पहले 3 टाइम अपने दरूद शरीफ़ पढ़ना है.
  • उसके बाद अपने “कुलवाफज-शहनाज़ मुरीद जिन्नात हाज़िरवा होव” 41 टाइम पढना है.
  • फिर से अपने दरूद शरीफ पढ था, वो पढ़ना है.
  • अमल खत्म होने के बाद आप बेड के लेफ्ट साइड में सो जाये.
  • अगर जिन्नत आपका दोस्त बन गया तो वो आपके साथ ज़िन्दगी बार तक रहेगा. लेकिन अगर आप जिन्नत से परेशान हो गए, तो आप जिन्नात को भगा भी सकते है. जिन्नात का अमल खत्म होने के बाद जिन्नात आपके सामने आ जायेगा. और आपसे दोस्ती का हाथ बढ़एगा. आपको बिना डरे जिन्नत से दोस्ती कर लेनी है. सुबह होने के बाद आप हमसे राब्ता करे. और हुमे जिन्नात के बारे में बताये.

Enquiry form