अल्लाह से मदद मांगे की दुआ हिंदी में


अल्लाह से दुआ मांगने के लिए आप पहले वुजू कर लें क्योंकि वुजू की हालत में दुआ मांगना बेहतर होता है। उसके बाद क्ब़िले की तरफ़ मुंह करके बैठ जाएं।

बैठने का तरीका यह है कि जैसे हम किसी नमाज़ में अत्तहीयात की हालत में बैठते हैं उसी तरह हमें दुआ के लिए भी बैठना है। पालथी मारकर हरगिज़ ना बैठे, इसे बेअदबी माना जाता है। लेकिन आप किसी मजबूरी में बैठ सकते हैं।

दुआ मांगते वक्त आपका ध्यान अल्लाह ताला की अज़्मत व कुदरत पर होनी चाहिए। अब आप दोनों हाथों को दुआ के लिए ऊपर उठा कर सबसे पहले दुरूद शरीफ़ पढ़ें।

Dua Qabool Hone Ki Dua in Hindi

दुआ कबूल होने की दुआ इन हिंदी गूगल पर सर्च करते हैं ? इसके लिए कोई विशिष्ट दुआ नहीं है। लेकिन इन बताए हुए तरीकों को अपना है आपका दुआ ज़रूर कबूल होगा।

सबसे पहले दुआ में दुरूद शरीफ़ पढ़ना अफ़ज़ल माना गया है। क्योंकि हदीस में आया है कि जो दुआ बगैर दुरूद शरीफ़ के मांगी जाती हो वह दुआ ज़मीन और आसमान के बीच में लटकती रहती है और कबूल नहीं होती है।

दुरूद शरीफ़ के बाद आप अल्लाह ताला की तारीफ़ बयां करें और उसमें अच्छे-अच्छे कलिमात पढ़े। इसके बाद इसमें आज़म और अस्मा-ए- हुस्ना में से एक, दो या उससे ज्यादा पढ़ें।

इन अस्मा के बारे में हदीस में आता है कि उनके पढ़ने के बाद जो दुआ मांगी जाए वह कभी ख़ारिज़ नहीं होती है। अब आप सबसे बड़े रहम करने वाले अल्लाह के सामने अपनी जरूरतों को पेश करें।

Allah Se Maafi Ki Dua in Hindi

जब आप दुआ कर रहे हो तो रो-रो कर, गिड़-गिड़ा कर अपनी दुआ को कुबूल कराएं, और सब कुछ मांग लेने के बाद दुआ के आख़िर में फिर से दुरूद शरीफ़ पढ़ें।

दुआ मांगने का सबसे अफ़ज़ल तरीका यह है कि हम जो भी दुआ मांगे, वह हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के वास्ते से कुबूल कराएं। हुजूर का वास्ता, दुआ कुबूल होने का सबसे बड़ा ज़रिया है।

जब दुआ पूरी हो जाए तो अपने दोनों हाथों को मुंह पर फेर लें, और दिल में ये यकीन करें कि दुआ जरूर कुबूल होगी। अगर दुआ की कुबूलियत का असर ना दिखे तो गमगीन ना हुए।

Conclusion

अल्लाह तआला पर यकीन रखते हुए हमेशा दुआ मांगते रहे, और यह ध्यान रखें कि अब तक आपकी दुआ कुबूल ना होने में आपका कोई बेहतर मुकद्दर है। जिसका आख़िरत में बहुत बड़ा सवाब मिलेगा।

Enquiry form