Ya wadudu wazifa for wife


Dua For My Wife To Love Me


Dua For My Wife To Love Me or for wife to be obedient can be use for controlling wife. You can use our wazifa for wife to love her husband. As all of us consider that the husband-wife relationship is the most Paak in world. There is a belief that this relation is the way of displaying the love of Allah. And the superpower Allah makes this relationship with super care at his place or in heaven.

Dua For My Wife To Love Me

But we have to maintain it on the earth—husband and wife both the pillars of the pure relationship. Not only wives can pray for the love of her husband. But husbands also can pray to achieve the affection of their wives from Allah. If it is so, Insha Allah, you will get the Almighty’s Meher for sure.

If you feel helpless just because your wife is no more attentive towards you, then start to pray. In this state of mind, you may feel frustrated and stressed. But being upset could not be a way out of this situation. Allah is the one who can save your relationship as he is omnipotent. So go for his help and start the ‘Dua for my wife to love me.’ Pray it with some extremities as follows-

  • Make sure of your sanitization (wuzu).
  • Start the Dua at a peaceful place and take a prayer mat to sit.
  • Now utter the sacred words of Durood with immense attention for three occasions.
  • To seek the Almighty Allah’s blessing, start to recite the Ayat Al Kursi consistently forty-one times.
  • As a closure of your prayer, utter three times the sacred ‘Salawat.’
  • Dua For Wife To Be Obedient
  • Dua For Wife To Be Obedient, This article is for the husbands who want to regain the love and affection of their beloved wives. If you are facing such a problem by the end of your wife, you can go for the Almighty Allah’s help. If you are good in intention, you will receive the fruitful result from the Dua for the wife to be obedient.

But keep in mind that you will get a positive result depending on your intention. If you are making the Dua for her love, not for dominating her, the result will come. Otherwise, Allah will not be going to support you. For performing the Dua for the wife to be obedient, you must go through some rituals that are mentioned beneath-

Try to initiate the Dua on Thursday by following the Esha prayer.

Think about your wife while performing the Dua.
Start your prayer after your cleanliness (ablution).


“Allahumma sale alamuhammadinwaala ale muhammadin”

Now utter the above said sacred wordings with the whole of your attention for hundred occasions accordingly.
After that, you should recite the sanctified Durood Shareef for hundred consistent occasions.
Please follow the whole process for the upcoming seven days to get the maximum result. But make sure that you are performing the Dua for the wife to be obedient to achieve her love. If you have other intentions like dominating her or torture her, then you will never the mercy of the Almighty Allah.

Dua For Controlling Wife

Dua For Controlling Wife, If your wife is fighting without any proper reason and very often then you have to do something. Because in such condition your marital relation and whole life are staying at a risky zone. Therefore ask for the help of the superpower. Allah Talah is the source of that power that can help you with offering a beautiful life ahead. So in this state of mind, start the Dua for controlling wife.

But to initiate the Dua for controlling wife to must take the consent of your molvi. It is true that in Islam, you can find all the remedies you need for your life-related problems. You can get the result from the Dua by following the under said process-

“La Hawla Wala Quwwata Illah Billah”

This is the Dua for controlling wife. The concerned Dua is a very powerful and effective way to enhance control over your wife. Start to utter the sacred wordings for forty consistent occasions.
Take your wife’s hair along a thread from your dress and utter the sacred ‘Surah Zilal.’ This time you have to utter both your end at the end.
After performing the above-said process, make seven consistent knots on the thread and hair.

Now throw the knotted thread and hair into the water.
If you can do all the processes accordingly, then you will witness the change shortly. Along with this procedure, you have to pray to the superpower Allah all the time.

Wazifa For Wife To Love Her Husband

Wazifa For Wife To Love Her Husband, We feel very low when our partner avoids us. This is a painful and stressful situation. But you don’t need to take so much stress. Because the omnipotent Allah is with you, with the help of the Almighty Allah, you will be able to go through the sea of bad luck. Therefore from today, start the ‘Wazifa for the wife to love her husband.’ It will be a great help to you if you can start the “Al-Mutakabir” in this state of mind. You need to read it for 3125 occasions with immense concentration. Besides this, you have to perform the sacred “awa-u-akher Darood Sharif.” If you want to reunite husband and wife then use our Dua To Reunite Husband And Wife.

The Wazifa for the wife to love her husband is an essential thing in these circumstances. As much as you can perform the Dua, you will get the change accordingly. You will witness that your wife is again trusting you, obeying you, respecting you. In this way, you can earn a happy life forever. To perform the Wazifa to get the major consequences, you have to follow some extremities. These are-

“Laaaa haaawlaa waa laaaa quwwaataa illaaaa billaaha”

Utter the above-mentioned sacred wordings to get the result for consistency forty times regularly.
“Yaaaa aar-haaamaar-raaaahaimeeeen”

Along with the above mentioned, Wazifa does perform this Wazifa as well for the appropriate consequences. You must read the concerned Wazifa for seven occasions accordingly every day.
Don’t forget to perform your five-time Namaz every day because it is the basic pillar of your faith in Allah.
While you are performing the Wazifa, you will notice that your wife is coming closer to you gradually. She will also start to remain in your control as well.

FAQ

How can I use Ya Wadud for love?

  • Follow this ritual to read the ya wadud wazifa for love:
  • Make wazu and sit on the prayer mat.
  • Recite Durood E Ibrahmi 11 times.
  • Now take a glass of water and recite “YA WADUDU” 1300 times and pray to Allah for what you desire.
  • In the end blow on the glass of water and make your partner drinks it.

How many times recite Ya Wadudu?

Pray five times a day and recite Quran-e-Pak as much as you can. Then recite “YA WADOODU” “YA RAOFO” “YA RAHIMO” and make Dua to Allah (SWT) for your aim. Recite Durood shreef 3 times in the start and also in the end.

Which Surah is good for husband and wife?

Surah Juma benefits for husband has all the benefits for your husband and which results in a happy family. If you have a kid, then it becomes all the more crucial that wife and husband continue to maintain a loving and respectful relationship with each other.

How do I control my husband’s Dua?

  • Powerful Dua To Control Husband in Quran
  • Make wudu and wear fresh clothes.
  • Recite”Audhu billahi min-ash-shayta -nir-rajeem Bismillah-ir-Rahman-ir-raheem”
  • Now, take three almonds or a sweet of your choice and recite this wazifa to control husband, “Allah umma Innee As Aalu Kaa Minn Fad Leeka”51 times.

ग़ैब से अल्लाह की मदद का वज़ीफ़ा



ALLAH Ki Ghaibi Madad Hasil Karne Ki Dua


Sallallahu ‘Alayhe Wasallam

Ye dua Huzoor-e-Akram Nabi Kareem Hazrat Mu’hammad ﷺ ne bashaarat me Hazrat Imam Hassan RadiALLAHu Anhu ko ata farmayi.

Hazrat Ameer Mu’awiya RadiALLAHu Anhu ki taraf se Hazrat Imam Hassan RadiALLAHu Anhu ka wazifa muqarrar tha. Jo ke ek lakh darham tha. Hazrat Imam Hassan Alayhis Salam ki taraf se wo wazifa dene me ek maah ki der ho gayi.

Hazrat Imam Hassan Alayhis Salam ko fikr si hui. Unhone socha kyun na iski khabar kar di jaye. Unhone ek qalam aur dawat mangwayi aur socha ke khat likh dun. Ye socha hi tha ke wo sarhane par rakha aur so gaye.

Khwab me Nahi Paak ﷺ tashreef laye aur farmaya,

Mere ALLAH se kyun nahi mangte ho?

Hazrat Imam Hassan RadiALLAHu Anhu ne farmaya,

kya mangun?

Phir Aap ﷺ ne ye dua irshad farmayi.

ALLAHummaqzif Fee Qalbee Rajaa-aka. Waqt’a Rajaa-ee Amman Siwaka Hatta Laa Arjoo A’hadan Ghairaka.

ALLAHumma Wama Da’ufat Anhu Quwwatee Wa Qasura ‘Anhu Amalee.

Walam Tantahi Ilayhi Raghbatee Walam Tablugh-hu Mas-Alatee Walam

Yajri ‘Alaa Lisaani Mimmaa A’ataita Ahadan mMinal Awwaleena Wal Aakhireena Minal Yaqeeni Fa’hussanee Bihi Ya Rabbal ‘Aalameena.

Is beshqeemti dua ke zariye aap ALLAH Ta’ala se apni zindagi ki har jayaz hajat Hazrat Imam Hassan RadiALLAHu Anhu ke sadqe aur tufail me qubool karva sakte hain.→ Kisi Bhi Kam Mein Fatah Aur Kamyabi Ki Dua

Aqeedat aur ahtaram ke sath kam se kam ek (1) martaba parhkar ALLAH Ta’ala se madad mangiye. Insha ALLAH, fauri ALLAH ki madad hasil hogi.

ये दुआ हुज़ूर-ए-अकरम नबी करीम हज़रात मुहम्मद ﷺ ने बशारत में हज़रात इमाम हसन रदिअल्लाहु अन्हु को अत फ़रमाई|

हज़रात अमीर मु’आविया रदिअल्लाहु ‘अन्हु की तरफ से हज़रात इमाम हसन रदिअल्लाहु ‘अन्हु का वज़ीफ़ा मुक़र्रर था| जो के एक लाख डरहम था| हज़रात इमाम हसन अलैहिस सलाम की तरफ से वो वज़ीफ़ा देने में एक माह की देर हो गयी|

हज़रात इमाम हसन अलैहिस सलाम को फ़िक्र सी हुई| उन्होंने सोचा क्यों न इसकी ख़बर कर दी जाए| उन्होंने एक क़लम और दावत मंगवाई और सोचा के ख़त लिख दूँ| ये सोचा ही था के वो सरहाने पर रखा और सो गए|

ख्वाब में नहीं पाक ﷺ तशरीफ़ लाए और फ़रमाया|

मेरे अल्लाह से क्यों नहीं मांगते हो?

हज़रात इमाम हसन रदिअल्लाहु ‘अन्हु ने फ़रमाया,

क्या मांगु ?

फिर आप ﷺ ने ये दुआ इरशाद फ़रमाई|

अक़ीदत और अहतराम के साथ कम से कम एक (1) मरतबा पढ़कर अल्लाह त’आला से मदद मांगिए| इन्शा अल्लाह, फौरी अल्लाह की मदद हासिल होगी|

इस बेशक़ीमती दुआ के ज़रिये आप अल्लाह त’आला से अपनी ज़िन्दगी की हर जायज़ हाजत हज़रत इमाम हसन रदिअल्लाहु ‘अन्हु के सदक़े और तुफ़ैल में क़ुबूल करवा सकते हैं|→ घर से निकलने की दुआ हिंदी में

Best & Powerful Dua for Immediate Help from ALLAH Ta’ala

This dua was taught by our Beloved Prophet Mu’hammad ﷺ to Hazrat Imam Hassan RadiALLAHu Anhu (a Grandson of Prophet Mu’hammad ﷺ).

Once a procedure was due by Hazrat Imam Hassan RadiALLAHu Anhu to Hazrat Ameer Mu’awiya RadiALLAHu Anhu. The value was one lac darham. Hazrat Imam Hassan Alayhis Salam became late for the fulfillment of that agreement.

Hazrat Imam Hassan Alayhis Salam got worried. He thought to inform Ameer Mu’awiya RadiALLAHu Anhu. So, He got a pen and ink to write a letter. He put those on the pillow and slept. He saw the Prophet Mu’hammad ﷺ in his dream.

The Prophet Mu’hammad ﷺ said,

“Why are you not asking to My ALLAH?”

Hazrat Imam Hassan RadiALLAHu Anhu asked, “What to ask?”

The Prophet Mu’hammad ﷺ taught him this dua in reply.

ALLAHummaqzif Fee Qalbee Rajaa-aka. Waqt’a Rajaa-ee Amman Siwaka Hatta Laa Arjoo A’hadan Ghairaka.

ALLAHumma Wama Da’ufat Anhu Quwwatee Wa Qasura ‘Anhu Amalee.

Walam Tantahi Ilayhi Raghbatee Walam Tablugh-hu Mas-Alatee Walam

Yajri ‘Alaa Lisaani Mimmaa A’ataita Ahadan mMinal Awwaleena Wal Aakhireena Minal Yaqeeni Fa’hussanee Bihi Ya Rabbal ‘Aalameena.

By reciting this precious dua, one’s any legitimate wishes can come true by asking to ALLAH The Exalted with the reference of Hazrat Imam Hassan RadiALLAHu Anhu.

Recite this dua at least one (1) time respectfully and honorably. Make a prayer to get ALLAH’s immense help. If ALLAH wills, ALLAH’s help will come to you immediately.

Ya Wududu Wazifa for Love, Love Marriage and to attract someone


Ya Wududu Wazifa for Love, Marriage, and to attract someone

Ya wududu wazifa for love, marriage, attract someone helps those peoples who want to get the feeling of love. That person is trying hard to get the love of their partner. He or she also wants to attract someone and then do love marriage with him or her.

As we all know that falling in love is an easy task or thing but staying in love is a difficult task. There are lots of people who just fall in love within a second but they don’t know anything about their beloved one. They don’t know the cast as well as a religion of that someone and in one day it will create problems for them.

If you are facing any type of problem or you want to get married to your partner or if you want to attract someone. Then at that time don’t take help from illegal methods. Ya Wadoodo to attract someone will help you in that case and In sha Allah it will help you.

Basically, it has the power to solve any type of relationship problem. So, if you will perform it in the right way then Inshallah will help you. If you want better results then you can contact our Molvi Ji and he will also help you and provide you the best Ya Wadudu wazifa for husband, wife, love, etc.

Ya Wududu Wazifa for Love Marriage, Love Back

If you want to get married soon or if your lover has left you and you want to get back your lover in your life. Everything should be possible with the help of ya wadoodo wazifa for love. It also helps you to overcome the fight that is happening between both of you. So if you are looking for any type of 100% result in providing wazifa.

Stay here and read the complete article in detail and we hope you like our wazifa. We have taken this wazifa from the holy book Quran and inshallah it will also help you. This wazifa has already helped lots of peoples so we hope you are also one of them after performing search powerful and strong wazifa.

This wazifa is also for the husband-wife problem. So if you are a wife and you are having a husband love problem. Ya Wadoodo for husband love will solve all your problems and after that, you will get the love of your husband. After that you both will live happily with each other and if you want to increase the husband and wife’s love.

Then we have already written an article about dua to save marriage from divorce. In that article, we have provided a dua which is a very powerful dua. And if you will perform it in the right way then inshallah you will get benefit from this as well.

Procedure of performing such ya wududu wazifa for love

Here is the step-by-step procedure of ya wadudu wazifa for love marriage as well as ya wadoodo ya kabiru wazifa for love or to attract someone. So, you have to perform this wazifa according to the below steps:

  • First of all, you have to wear neat and clean clothes.
  • After that, make a fresh wudu and perform a Chashat Salah.
  • Now, sit on the mat and start reciting 3 times Darood Shareef.
  • After that, start chanting Ya wadoodo 100 times and also keep someone special in your mind.
  • Now, you have to pray to the almighty Allah and perform this wazifa for 10 days continuously.
  • Inshallah, with the help of the Almighty Allah you will get back your lover in your life. You can also attract someone and get married soon with him or her. If you don’t want to perform such ya wududu wazifa for love, then you have to consult our Molvi Ji who will help you as fast as possible Inshallah.

FAQ

How can I use Ya Wadud for love?

Follow this ritual to read the ya wadud wazifa for love:
Make wazu and sit on the prayer mat.
Recite Durood E Ibrahmi 11 times.
Now take a glass of water and recite “YA WADUDU” 1300 times and pray to Allah for what you desire.
In the end blow on the glass of water and make your partner drinks it.

What is the benefit of ya Wadudu?

Ya Wadudu meaning says “The Most Loving, The kindest of all” As you all know no one is more loving than Allah Subhana Wa’ Tala so, you can make this dua to get the love of Almighty and anyone you desire. The dua will bring immense love in your life and will help you win the heart of your partner.

How many times recite Ya Wadudu?

Islam has given you the right to choose your soul mate. The Wazifa of “YA WADOODO” can help you in this situation and through this you can ask for help from Allah (SWT). Recite Surah Al-Fatiha 41 times after the prayer of isha. After that recite “YA WADOODU” 59 times and make Dua to Allah (SWT) for your aim.

What is Wazifa love?

This Wazifa is for those people who wish to create love between both of you. And if you are facing any type of difficulties or obstacles in your lover’s life or in your life. Then you can remove the challenges between both of you with the help of this strong wazifa for Mohabbat.

शौहर को बस में करना


शौहर को बस में करने का ताबीज

शौहर को बस में करने का ताबीज – Shohar Ko Bas Me Karne Ka Taweez, Wazifa, Dua, Tarika, Upay, Amal, यदि आप के शोहर आप की कोई बात नहीं मानते और अपनी मनमर्ज़ी चलते है जिससे आपके परिवार पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है तो हम लाये है शौहर को काबू में करने का ताबीज और अपने शौहर को काबू में करने का तरीका। इसे शौहर को अपनी तरफ करने की दुआ भी कहा जाता है.

Shohar Ko Bas Me Karne Ka Taweez

हर महिला की इच्छा होती है कि शादी के बाद उसे बेहद प्यार करने वाला शौहर मिले। इसके लिए वह अल्लाह से दुआ करती है, रमज़ान में रोज़े रखती है और पाँचों वक्त की नमाज़ भी अदा करती है।

महिला की ये सभी दुआ कबूल भी हो जाती है और एक बहुत ही अच्छे घर में उसकी शादी भी हो जाती है। शादी के बाद तो मियां-बीवी में बहुत ज्यादा प्यार देखने को मिलता है।

शौहर को बस में करने का ताबीज

लेकिन कई बार यह प्यार ज्यादा दिन तक नहीं चल पाता और कुछ दिनों के बाद ही मियां बीवी के बीच अनबन शुरू हो जाती है। ऐसा लगता है मानो मियां बीवी की जोड़ी को किसी की नज़र लग गई है। ऐसे समय पर महिलाओं को कुछ ऐसे तौर-तरीके अपनाने चाहिए जिससे वे अपने शौहर को वश में कर सकें। इसके लिए बीवी शौहर को बस में करने का ताबीज का इस्तेमाल कर सकती है।

शौहर को बस में करने का ताबीज बनाना बहुत आसान है। इसे बनाने के लिए आपको एक काला पेन, एक सेब, सात लौंग और सात चावल के दाने लेने है। शौहर को बस में करने का ताबीज के लिए सबसे पहले एक सेब को अच्छी तरह से छील लें। इसके बाद सेब के तरफ अपना नाम लिखें और दूसरी तरफ अपने शौहर का नाम लिखें।
अब आपको शौहर को बस में करने का ताबीज के लिए सात लौंग लेनी है और उन्हें अपने नाम वाली जगह पर सेब में लगा देना है। इसके बाद दूसरी तरफ जहाँ आपने अपने शौहर का नाम लिखा है उस तरफ चावल के सात दाने लगा दें। अब बिस्मिल्लाह शरीफ पढ़ें और सेब पर दम करें।

शौहर को बस में करने का ताबीज के लिए इसके बाद यह सेब किसी भी बहाने अपने शौहर को खिला दें। सेब खिलाने से पहले लौंग और चावल निकाल लें और उन्हें किसी पौधे में डाल दें। शौहर को बस में करने का ताबीज के इस्तेमाल से आपका पति पूरी तरह आपके वश में हो जाएगा।

शौहर को काबू में करने का ताबीज

शौहर को काबू में करने का ताबीज – Shohar Ko Kabu Karne Ka Taweez, Qurani Wazifa, Dua, Tarika, Upay, Amal, Jadu, हमारे द्वारा बताया गया शौहर को काबू में करने का ताबीज बहुत ही असरदार है। इस ताबीज़ को आप हफ्ते में किसी भी दिन इस्तेमाल कर सकते है। यदि किसी माता- बहन को शौहर को काबू में करने का ताबीज बनाने में कोई शंका हो तो वह हमसे संपर्क कर सकती है।

इसके अलावा आप मौलाना जी से भी शौहर को काबू में करने का ताबीज बनवा सकते है। इस ताबीज़ के इस्तेमाल के बाद एक महिला अपने शौहर पर पूरी तरह नियंत्रण बना सकती है।

शौहर को काबू में करने का ताबीज के इस्तेमाल के साथ ही आपको अल्लाह से यह भी दुआ करनी है कि आपका यह रिश्ता सलामत रहें और इस रिश्ते में कभी किसी प्रकार की आँच ना आये

Shohar Ko Kabu Karne Ka Taweez

यदि आपको शक है कि आपका पति का किसी अन्य महिला के साथ चक्कर चल रहा है और आप अपने पति को सही रास्ते पर लाना चाहती है, तो भी आप शौहर को काबू में करने का ताबीज का इस्तेमाल कर सकती है।

इस ताबीज़ की मदद से आप अपने पति को सुधार सकती है। यदि आपकी कोई सहेली या रिश्तेदार भी अपने शौहर से परेशान है और वह अपने पति को वश में करना चाहती है तो हमारा द्वारा बताया गया शौहर को काबू में करने का ताबीज आप उन्हें बता सकते हैं।

अपने शौहर को काबू में करने का तरीका

अपने शौहर को काबू में करने का तरीका – Apne Shohar Ko Kabu Karne Ka Tarika, Taweez, Qurani Wazifa, Dua, Upay, Amal, Jadu, मियां बीवी के रिश्ते में छोटी-मोटी अनबन और लड़ाई-झगड़ा होना आम बात है। लेकिन कई बार किसी गलतफहमी के कारण बात बहुत अधिक बढ़ जाती है। यदि समय रहते उन सभी बातों को बठकर सुलझाया ना जाए तो बात तलाक तक भी पहुँच सकती है।

तलाक के बाद मियां बीवी की ज़िन्दगी बिल्कुल बर्बाद हो जाती है। रिश्ते को कायम रखने के लिए अधिकतर महिलाएं ही कोशिश करती है। ऐसा इसलिए क्योंकि पुरूषों के अंदर प्राकृतिक तौर पर अधिक गुस्सा पाया जाता है।

लेकिन एक महिला रिश्तों की अहमियत समझती है और वह जानती है यदि उसने पति का प्यार जीत लिया तो उनके रिश्ते में फिर से मोहब्बत आ जाएगी। ऐसी परिस्थितियों में महिलाओं को अपने शौहर को काबू में करने का तरीका का इस्तेमाल करना चाहिए।

Apne Shohar Ko Kabu Karne Ka Tarika

अपने शौहर को काबू में करने का तरीका आपको जुमे के दिन से शुरू कर तीन दिन तक करना है। इसके लिए आपको एक गुलाब के फूल की जरूरत पड़ेगी। अपने शौहर को काबू में करने का तरीका के लिए नीचे दी गई दुआ 41 बार पढ़ें-
अल्लाहुमा अलिया अबसारा कुल बहूम अन शार्री नेहू इला खारी यमलाका हू

यह दुआ पढ़ने के बाद आपको गुलाब के फूल पर दम करना है और रात को सोते हुए शौहर के सिरहाने यह फूल रख दें। अपने शौहर को काबू में करने का तरीका आपको तीन दिन तक करना होगा।

तीन दिन के पश्चात तीनों फूल को किसी बहते जल में प्रवाहित कर दें। इसके बाद आपका पति पूरी तरह से आपके काबू में हो जाएगा।

शौहर को अपनी तरफ करने की दुआ

शौहर को अपनी तरफ करने की दुआ – Shohar Ko Apni Taraf Karne Ki Dua, Apne, Tarika, Taweez, Qurani Wazifa, Upay, Amal, Jadu, एक पुरूष की ज़िन्दगी बहुत ही सादगी भरी और रूखी-सूखी होती है। एक स्त्री के आने के बाद ही उसकी बेरंग ज़िन्दगी में नई जान आती है। एक स्त्री ही होती है जो पुरूषों के मन में जीने की तमन्ना जागृत करती है।

विवाह के बाद स्त्री अपने शौहर के लिए सबकुछ छोड़कर आ जाती है। लेकिन कई बार महिलाओं को बहुत ही ज़ालिम शौहर मिल जाता है। ऐसे शौहर अपनी बीवी पर बहुत जुल्म करते है। ऐसे में एक महिला कई बार रिश्ते को खत्म करने का विचार करती है।

आपको बता दें रिश्ते को खत्म करके किसी भी समस्या का हल नहीं किया जा सकता। इसकी बजाय आप शौहर को अपनी तरफ करने की दुआ का इस्तेमाल कर सकती है।

Shohar Ko Apni Taraf Karne Ki Dua

अपने रिश्ते को महफूज़ रखने के लिए कोई भी महिलाशौहर को अपनी तरफ करने की दुआ की मदद ले सकती है। यह दुआ आपको मगरिब की नमाज अदा करने के बाद पढ़नी है। वुज़ू की हालत में सबसे पहले 11 मरतबा दुरूद ए पाक पढें। इसके बाद आपको नीचे दी गई शौहर को अपनी तरफ करने की दुआ पढ़नी है-
अल कबीरो

यह दुआ आपको 111 बार पढ़नी है। शौहर को अपनी तरफ करने की दुआमें अंत में फिर से 11 बार दुरूद ए पाक पढ़ें। अब अपनी दोनों हथेलियों पर दम करें और उन्हें अपने चेहरे पर फेर लें।

ऐसा करने से आपके चेहरे में एक अलग तेज और आकर्षण शक्ति उत्पन्न हो जाएगी। शौहर को अपनी तरफ करने की दुआ के लिए अब आपको सीधे अपने शौहर के पास जाना है। जैसे ही शौहर की नज़र आपके चहरे पर पड़ेगी, वह पूरी तरह से आपके काबू में हो जाएगा।

अल्लाह से मदद मांगे की दुआ हिंदी में


अल्लाह से दुआ मांगने के लिए आप पहले वुजू कर लें क्योंकि वुजू की हालत में दुआ मांगना बेहतर होता है। उसके बाद क्ब़िले की तरफ़ मुंह करके बैठ जाएं।

बैठने का तरीका यह है कि जैसे हम किसी नमाज़ में अत्तहीयात की हालत में बैठते हैं उसी तरह हमें दुआ के लिए भी बैठना है। पालथी मारकर हरगिज़ ना बैठे, इसे बेअदबी माना जाता है। लेकिन आप किसी मजबूरी में बैठ सकते हैं।

दुआ मांगते वक्त आपका ध्यान अल्लाह ताला की अज़्मत व कुदरत पर होनी चाहिए। अब आप दोनों हाथों को दुआ के लिए ऊपर उठा कर सबसे पहले दुरूद शरीफ़ पढ़ें।

Dua Qabool Hone Ki Dua in Hindi

दुआ कबूल होने की दुआ इन हिंदी गूगल पर सर्च करते हैं ? इसके लिए कोई विशिष्ट दुआ नहीं है। लेकिन इन बताए हुए तरीकों को अपना है आपका दुआ ज़रूर कबूल होगा।

सबसे पहले दुआ में दुरूद शरीफ़ पढ़ना अफ़ज़ल माना गया है। क्योंकि हदीस में आया है कि जो दुआ बगैर दुरूद शरीफ़ के मांगी जाती हो वह दुआ ज़मीन और आसमान के बीच में लटकती रहती है और कबूल नहीं होती है।

दुरूद शरीफ़ के बाद आप अल्लाह ताला की तारीफ़ बयां करें और उसमें अच्छे-अच्छे कलिमात पढ़े। इसके बाद इसमें आज़म और अस्मा-ए- हुस्ना में से एक, दो या उससे ज्यादा पढ़ें।

इन अस्मा के बारे में हदीस में आता है कि उनके पढ़ने के बाद जो दुआ मांगी जाए वह कभी ख़ारिज़ नहीं होती है। अब आप सबसे बड़े रहम करने वाले अल्लाह के सामने अपनी जरूरतों को पेश करें।

Allah Se Maafi Ki Dua in Hindi

जब आप दुआ कर रहे हो तो रो-रो कर, गिड़-गिड़ा कर अपनी दुआ को कुबूल कराएं, और सब कुछ मांग लेने के बाद दुआ के आख़िर में फिर से दुरूद शरीफ़ पढ़ें।

दुआ मांगने का सबसे अफ़ज़ल तरीका यह है कि हम जो भी दुआ मांगे, वह हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के वास्ते से कुबूल कराएं। हुजूर का वास्ता, दुआ कुबूल होने का सबसे बड़ा ज़रिया है।

जब दुआ पूरी हो जाए तो अपने दोनों हाथों को मुंह पर फेर लें, और दिल में ये यकीन करें कि दुआ जरूर कुबूल होगी। अगर दुआ की कुबूलियत का असर ना दिखे तो गमगीन ना हुए।

Conclusion

अल्लाह तआला पर यकीन रखते हुए हमेशा दुआ मांगते रहे, और यह ध्यान रखें कि अब तक आपकी दुआ कुबूल ना होने में आपका कोई बेहतर मुकद्दर है। जिसका आख़िरत में बहुत बड़ा सवाब मिलेगा।

जिन से दोस्ती करने का तरीका


Jinnat se dosti karne ka asan amal | जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल, “Jinnat aur jinn dono alag alag hote hai. Jinnat achhe hote hai. Lekin jinn bure hote hai. Wo insan ko nuksan puchate hai. Isliye jinnat ko dost banana asan hota hai. Jinnat ko dost bana kar aap usse koi bhi kaam karwa sakte hai. Agar jinnat apse dosti kar leta hai, to apki zindagi ki saari pareshani door ho jayegi.

Jinnat se dosti har koi insan karna chahta hai. Log humse jinnat aur hamzad ke bare me puchte hai. Lekin hamzad ke amal bhi amil ko bhaut saari muskilo ka samana karna pad sakta hai. Aur jinnat se dosti karne ka asan amal hai, jiski madad se aap jinnat apna pakka dost bana sakte ho.

Agar jinnat ne apka kaam kar diya to badle jinnat apse kuch nhi magega. Kyoki dost hamesha apka pareshani me sath dete hai. Agar dost hi badle me apse kuch mang leta hai, to fir wo dosti kis kaam ki hai. Isliye jinnat ko hamesha apne sath rakha ja sakta hai.

Jinnat se dosti karne ka amal

Har koi insan apna aisa dost jarur banana chahta hai, jo uski muskil waqt me uska sath de. Uske sath kadam se kadam mila kar chale. Apko jinnat se dosti karne ka amal to bahut mil jayege. Lekin ek aisa amal hona chahiye, jo jinnat se ek din me dosti karwa de. Isliye bahut hi purana amal hum lekar aaye hai.

Agar apki age 18 se saal upar hai, Aur aap dil ke kathor insan hai, to aap yeh amal bilkul kar sakte hai. Agar apke andar jinnat se dosti karne ka janoon hai. Aaj hi is amal ko kare. Insha allah jo aap jinnat se dosti karne ka sapna dekhte thye. Wo yakeenan pura ho jayega.

Jinnat se friendship karne ka amal niche diya gya hai.

  • Yeh amal aap kisi ko bina bataye karna hai.
  • Amal karne se ek din pahle amal ki puri tyari kar leni hai.
  • Jo saman lana hai, wo amal ke din bhi laa sakte hai.
  • Jis room me jinnat ki hazir hogi, wo room bilkhul khusboobdar bana le.
  • Sabse pahle 3 time apne durood sharif padhna hai.
  • Uske baad apne “Kulwafz-sahnaz murid jinnat hazirwa hove” 41 time padhna hai.
  • Fir se apne durood sharif padh tha, wo padhna hai.
  • Amal khatam hone ke baad aap bed ke left side me so jaye.
  • Agar jinnat apka dost ban gya to wo apke sath zindagi bar tak rahega. Lekin agar aap jinnat se preshan ho gye, to aap jinnat ko bhaga bhi sakte hai. Jinnat ka amal khatam hone ke baad jinnat apke samne aa jayega. Aur apse dosti ka hath badhyega. Apko bina dare jinnat se dosti kar leni hai. Subah hone ke baad aap humse rabta kare. Aur hume jinnat ke bare me bataye.

जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल हिंदी में

जिन्नात और जीन दोनों अलग अलग होते है. जिन्नात अच्छे होते है. लेकिन जीन बुरे होते है. वो इंसान को नुक्सान पूछते है. इसलिए जिन्नात को दोस्त बनाना आसान होता है. जिन्नात को दोस्त बना कर आप उससे कोई भी काम करवा सकते है. अगर जिन्नात आपसे दोस्ती कर लेता है, तो आपकी ज़िन्दगी की सारी परेशानी दूर हो जाएगी.

जिन्नात से दोस्ती हर कोई इंसान करना चाहता है. लोग हमसे जिन्नत और हमज़ाद के बारे में पूछते है. लेकिन हमज़ाद के अमल भी आमिल को बहुत सारी मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.
और जिन्नात से दोस्ती करने का आसान अमल है, जिसकी मदद से आप जिन्नत अपना पक्का दोस्त बना सकते हो.

अगर जिन्नात ने आपका काम कर दिया तो बदले जिन्नात आपसे कुछ नहीं मांगेगा. क्योंकि दोस्त हमेशा आपका परेशानी में साथ देते है. अगर दोस्त ही बदले में आपसे कुछ मांग लेता है, तो फिर वो दोस्ती किस काम की है. इसलिए जिन्नात को हमेशा अपने साथ रखा जा सकता है.

जिन्नात से दोस्ती करने का अमल

हर कोई इंसान अपना ऐसा दोस्त जरूर बनना चाहता है, जो उसकी मुश्किल वक़्त में उसका साथ दे. उसके साथ कदम से कदम मिला कर चले. आपको जिन्नत से दोस्ती करने वाले अमल तो बहुत मिल जायेंगे. लेकिन एक ऐसा अमल होना चाहिए, जो जिन्नात से एक दिन में दोस्ती करवा दे. इसलिए बहुत ही पुराना अमल हम लेकर आये है.

अगर आपकी आगे 18 से साल ऊपर है, और आप दिल के कठोर इंसान है, तो आप यह ामल बिलकुल कर सकते है. अगर आपके अंदर जिन्नात से दोस्ती करने का जनून है. आज ही इस अमल को करे. इंशा अल्लाह जो आप जिन्नत से दोस्ती करने का सपना देखते ठये. वो यकीनन पूरा हो जायेगा. जिन्नत से फ्रेंडशिप करने का अमल निचे दिया गया है.

  • यह अमल आप किसी को बिना बताये करना है.
  • अमल करने से एक दिन पहले अमल की पूरी तयारी कर लेनी है.
  • जो सामान लाना है, वो अमल के दिन भी ला सकते है.
  • जिस रूम में जिन्नत की हाज़िर होगी, वो रूम बिलखुल खुसबुबदार बना ले.
  • सबसे पहले 3 टाइम अपने दरूद शरीफ़ पढ़ना है.
  • उसके बाद अपने “कुलवाफज-शहनाज़ मुरीद जिन्नात हाज़िरवा होव” 41 टाइम पढना है.
  • फिर से अपने दरूद शरीफ पढ था, वो पढ़ना है.
  • अमल खत्म होने के बाद आप बेड के लेफ्ट साइड में सो जाये.
  • अगर जिन्नत आपका दोस्त बन गया तो वो आपके साथ ज़िन्दगी बार तक रहेगा. लेकिन अगर आप जिन्नत से परेशान हो गए, तो आप जिन्नात को भगा भी सकते है. जिन्नात का अमल खत्म होने के बाद जिन्नात आपके सामने आ जायेगा. और आपसे दोस्ती का हाथ बढ़एगा. आपको बिना डरे जिन्नत से दोस्ती कर लेनी है. सुबह होने के बाद आप हमसे राब्ता करे. और हुमे जिन्नात के बारे में बताये.

मोहब्बत का ताबीज


मोहब्बत का ताबीज

मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा – Mohabbat Mein Bechain Karne Ka Wazifa Dua, हर कोई चाहता है उसका प्यार मोहब्बत मे इतना बेचैन हो की उसको केवल अपना महबूब हे सब कुछ हो, इसलिए आज हम आपको मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज और प्रेमी को अपनी मोहब्बत में बेचैन करने की दुआ के बारे मई बता रहे है. इसे किसी को भी अपनी मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा भी कहा जाता है.

Mohabbat Mein Bechain Karne Ka Wazifa

किसी को भी अपनी मोहब्बत में बेचैन करने करनेके लिए अपनाएं ये वजीफा

दोस्तों आज के समय में किसी को अपनी मोहब्बत का अहसास कराना बेहद मुश्किल है। आज के जमाने में लोग सच्ची मोहब्बत का मतलब भी भूल गए है। जब कोई दो शख्स एक-दूसरे के बगैर एक दिन भी ना रह पाए और एक-दूसरे से बात करने के लिए तड़पने लगे, वही सच्ची मोहब्बत होती है।

मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा – Mohabbat Mein Bechain Karne Ka Wazifa, Dua, Taweez

अक्सर ऐसा देखा जाता है कि आपकिसी व्यक्ति से बेइंतहा मोहब्बत करते है, लेकिन सामने वाले व्यक्ति आपकी भावनाओं को समझ ही नहीं पाता है। ऐसे में अपने महबूब को अपने प्यार का अहसास दिलाने के लिए आपमोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा अपना सकते है। इस वजीफे की मदद से सामने वाला व्यक्ति आपका प्यार पाने के लिए तड़पने लगेगा।

मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा आपको ईशा की नमाज के बाद अपनाना है। इस वजीफे से आपकी दुआ सीधा अल्लाह तक पहुँचेगी और इंशाल्लाह आपका प्यार भी जल्द आपके पास लौट आएगा। मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा के लिए सबसे पहले सात बार दुरूद इब्राहिम पढ़ ले। अब पवित्र पुस्तक कुरान-ए-पाक की पहली सूरत सूरह फतिहा 101 मरतबा पढ़े।
मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा के लिए अब आपको उस व्यक्ति का नाम लेना है, जिसे आप अपने प्यार में पागल करना चाहते है। तीन बार उस व्यक्ति का नाम लेने के बाद कुरान-ए-पाक की तीसरी सूरत सूरह इखलास भी 101 मरतबा पढ़े।

अंत में फिर से 7 बार दुरूद इब्राहिम पढ़ना है। मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा आप मंगलवार और शनिवार को छोड़कर किसी भी दिन पढ़ सकते है।

मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज

मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज – Mohabbat Mein Bechain Karne Wala Taweez, Wazifa, Dua, एक तरफा मोहब्बत आज के समय में बेहद आम बात हो गई है। किसी प्रसिद्ध शायर ने भी कहा है कि मोहब्बत तो हमेशा एकतरफा ही होती है, जहाँ दोनों की रज़ामंदी हो उसे तो किस्मत कहते है।

यदि आप भी किसी को अपना दिल दे बैठे है और उसके बगैर अपनी ज़िन्दगी की कल्पना भी नहीं कर सकते तो मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज का इस्तेमाल कर सकते है।

इस मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज की मदद से सामने वाला व्यक्ति आपका प्यार पाने के लिए पागल हो जाएगा। ऐसा करने से उसे अपने आसपास आपके अलावा अन्य कोई व्यक्ति नज़र नहीं आएगा।

Mohabbat Mein Bechain Karne Wala Taweez

आज हम आपको मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज़ बनाना सीखा रहे है, जिसकी मदद से आप बेहद आसानी से सामने वाले व्यक्ति के दिल में अपने लिए प्यार जागृत कर सकते है। इसके लिए आपको एक कोरा सफेद कागज लेना है और उसके ऊपर नीचे दी गई टेबल बना ले-
8 3 4
1 5 9
6 7 2

मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज बनाते वक्त इस बॉक्स के ऊपर 786 लिखें और नीचे कोने में अपने प्रेमी का नाम लिख दे। साथ ही अपने प्रेमी की माँ का नाम भी लिख दे।

मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज़ बनाने के बाद आपको इस कागज को अच्छे से लपेट कर 7 बार दुरूद ए पाक पढ़कर नदी में फेंक देना है। यह उपाय आपको 40 रोज़ तक अपनाना है इसके लिए आपको रोज़ाना नया मोहब्बत में बेचैन करने वाला ताबीज बनाना होगा।

प्रेमी को अपनी मोहब्बत में बेचैन करने की दुआ

प्रेमी को अपनी मोहब्बत में बेचैन करने की दुआ – Premi Ko Apni Mohabbat Me Bechain Karne Ki Dua, Taweez, Wazifa, युवाओं में आजकल एक चीज बेहद आम हो गई है कि वे केवल जिस्मानी तौर पर सामने वाले व्यक्ति से प्यार करते है। ऐसे में सच्चा प्यार और रूह से मोहब्बत करने वालों की कोई कद्र नहीं करता।

लेकिन अल्लाह की नज़र में सच्चा प्यार वही है जो जिस्मानी तौर पर नहीं बल्कि रूहानी तौर पर होता है। यदि आप किसी से सच्चा प्यार करते है और प्रेमी को भी अपनी तरह ही मोहब्बत में बेचैन करना चाहते है तो प्रेमी को अपनी मोहब्बत में बेचैन करने की दुआ पढ़ सकते है।

ध्यान रखिए इस प्रकार की कोई भी दुआ पढ़ने से पहले किसी मौलवी से इजाजत अवश्य ले।

Premi Ko Apni Mohabbat Me Bechain Karne Ki Dua, Taweez, Wazifa

प्रेमी को अपनी मोहब्बत में बेचैन करने की दुआ हमेशा नेक इरादे के साथ ही करनी है। इस दुआ के इस्तेमाल से प्रेमी आपकी मोहब्बत का दीवाना हो जाएगा। रात को सोने से पहल ताजा वज़ू बना ले और सफेद चादर बिछाकर बैठ जाए। अब 11 बार दुरूद ए पाक पढ़कर प्रेमी को अपनी मोहब्बत में बेचैन करने की दुआकी शुरूआत करनी है। नीचे दी गई दुआ सिलसिलेवार ढंग से बिना अटके 1000 बार पढ़े-
अल्लाहूम्मा जनी वा अल हकू मेहबूब इन फि बइहाकी या वजूदा या बदूहू।

प्रेमी को अपनी मोहब्बत में बेचैन करने की दुआ पढ़ने के बाद आपको अल्लाह से मोहब्बत की भीख मांगनी है। साथ ही अपने सारे गुनाहों की माफी भी मांग ले। इसके बाद अंत में फिर से 11 मरतबा दुरूद ए पाक पढ़े। प्रेमी को अपनी मोहब्बत में बेचैन करने की दुआ आपको कम से कम 21 दिन तक रोज़ाना पढ़ना ही।

किसी को भी अपनी मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा

किसी को भी अपनी मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा – Kisi Ko Bhi Apni Mohabbat Me Bechain Karne Ka Wazifa, Dua, Taweez, एक महिला हो या पुरूष हर कोई अपनी ज़िन्दगी अपने तरीके से और अपने पसंदीदा व्यक्ति के साथ जीना चाहता है।

लेकिन जीवन कई मोड़ पर हमारी परीक्षाएं लेती है, जिसमें हमें खुद को सही साबित करना होता है। कई बार इन परीक्षाओं में सफल होने के लिए कुछ वजीफों और दुआओं की मदद भी लेनी पड़ जाती है।

यदि आप अपने प्रेमी से प्यार का इज़हार करके थक गए है और वह बार-बार आपके प्यार को नकार रहा है तो एक बार किसी को भी अपनी मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा पढ़ सकते है। हमारे द्वारा बताए गए सभी वजीफे बेहद चमत्कारी और असरदार है।

Kisi Ko Bhi Apni Mohabbat Me Bechain Karne Ka Wazifa

किसी को भी अपनी मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा का इस्तेमाल लड़का या लड़की कोई भी कर सकता है। इस वजीफे के लिए आपको 7 काली मिर्च की जरूरत होगी। सबसे पहले कोई भी दुरूद शरीफ 7 मरतबा पढ़ ले। अब एक काली मिर्च हाथ में ले और ‘या वदूदो’ 101 बार पढ़े। इसके बाद उस काली मिर्च पर दम करें और एक तरफ रख दे।
किसी को भी अपनी मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा में आपको सभी 7 काली मिर्च के साथ ऐसा ही करना है। अंत में 7 बार दुरूद शरीफ पढ़े और सभी काली मिर्च को अग्नि में जला दे। किसी को भी अपनी मोहब्बत में बेचैन करने का वजीफा आपको केवल 7 दिन तक अपनाना है। इसके बाद सामने वाला व्यक्ति आपसे मिलने और बात करने के लिए बेचैन हो जाएगा।

अल्लाह से मांगे की दुआ हिंदी में


अल्लाह से दुआ मांगने के लिए आप पहले वुजू कर लें क्योंकि वुजू की हालत में दुआ मांगना बेहतर होता है। उसके बाद क्ब़िले की तरफ़ मुंह करके बैठ जाएं।

बैठने का तरीका यह है कि जैसे हम किसी नमाज़ में अत्तहीयात की हालत में बैठते हैं उसी तरह हमें दुआ के लिए भी बैठना है। पालथी मारकर हरगिज़ ना बैठे, इसे बेअदबी माना जाता है। लेकिन आप किसी मजबूरी में बैठ सकते हैं।

दुआ मांगते वक्त आपका ध्यान अल्लाह ताला की अज़्मत व कुदरत पर होनी चाहिए। अब आप दोनों हाथों को दुआ के लिए ऊपर उठा कर सबसे पहले दुरूद शरीफ़ पढ़ें।

Dua Qabool Hone Ki Dua in Hindi

दुआ कबूल होने की दुआ इन हिंदी गूगल पर सर्च करते हैं ? इसके लिए कोई विशिष्ट दुआ नहीं है। लेकिन इन बताए हुए तरीकों को अपना है आपका दुआ ज़रूर कबूल होगा।

सबसे पहले दुआ में दुरूद शरीफ़ पढ़ना अफ़ज़ल माना गया है। क्योंकि हदीस में आया है कि जो दुआ बगैर दुरूद शरीफ़ के मांगी जाती हो वह दुआ ज़मीन और आसमान के बीच में लटकती रहती है और कबूल नहीं होती है।

दुरूद शरीफ़ के बाद आप अल्लाह ताला की तारीफ़ बयां करें और उसमें अच्छे-अच्छे कलिमात पढ़े। इसके बाद इसमें आज़म और अस्मा-ए- हुस्ना में से एक, दो या उससे ज्यादा पढ़ें।

इन अस्मा के बारे में हदीस में आता है कि उनके पढ़ने के बाद जो दुआ मांगी जाए वह कभी ख़ारिज़ नहीं होती है। अब आप सबसे बड़े रहम करने वाले अल्लाह के सामने अपनी जरूरतों को पेश करें।

Allah Se Maafi Ki Dua in Hindi

जब आप दुआ कर रहे हो तो रो-रो कर, गिड़-गिड़ा कर अपनी दुआ को कुबूल कराएं, और सब कुछ मांग लेने के बाद दुआ के आख़िर में फिर से दुरूद शरीफ़ पढ़ें।

दुआ मांगने का सबसे अफ़ज़ल तरीका यह है कि हम जो भी दुआ मांगे, वह हुजूर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के वास्ते से कुबूल कराएं। हुजूर का वास्ता, दुआ कुबूल होने का सबसे बड़ा ज़रिया है।

जब दुआ पूरी हो जाए तो अपने दोनों हाथों को मुंह पर फेर लें, और दिल में ये यकीन करें कि दुआ जरूर कुबूल होगी। अगर दुआ की कुबूलियत का असर ना दिखे तो गमगीन ना हुए।

Conclusion

अल्लाह तआला पर यकीन रखते हुए हमेशा दुआ मांगते रहे, और यह ध्यान रखें कि अब तक आपकी दुआ कुबूल ना होने में आपका कोई बेहतर मुकद्दर है। जिसका आख़िरत में बहुत बड़ा सवाब मिलेगा।

खबीस भगाने का तरीका


खबीस से छुटकारा – भूत प्रेत भगाने के 15 उपाय,भूत प्रेत भगाने की जड़ी बूटी

खबीस से छुटकारा, अगर भूत घर का शिकार करता है, तो परिवार परेशान हो जाता है। जिसने भूत प्रेत को अपने अधिकार में ले लिया है, वही उसके दुख को समझ सकता है। घबड़ाएं नहीं। अतामबाल का अर्थ है भूत जो भूत से निडर होकर सामना करते हैं, वे खुद को उससे दूर रखते हैं।

वैसे, भूत बुरी आत्मा के सितारे हैं। भूत आदि के पास महादेव, जगदम्बा या हनुमान का ध्यान करने वाले भक्तों को परेशानी का कारण नहीं है। लेकिन सामान्य सांसारिक संतों की तरह, ऋषियों को हमेशा भगवान के ध्यान में नहीं रखा जा सकता है। दैनिक जीवन में कुछ ऐसी गलतियाँ हैं, जो इन शारीरिक शक्तियों को हावी होने का मौका देती हैं।

सभी भूत परेशान नहीं करते हैं। उनमें से कुछ अच्छे हैं और कुछ बहुत बुरे हैं। इंसान ज्यादातर बुरी प्रवृत्ति से आता है। अच्छे स्वभाव वाली आत्माएं इंसानों से दूर रहती हैं। वह अपनी प्रेत योनि को एकांत या निर्जन स्थान पर काटता है। अगर ये अच्छी आत्माएँ किसी पर प्रसन्न होती हैं, तो वे उसे बहुत कुछ प्रदान करते हैं।

बुरी प्रवृत्ति वाले बुरी आत्माएं अपनी इच्छाओं और इच्छाओं को गुलाम बना लेती हैं। जब प्रेत योनि पाई जाती है, तो वे इच्छाएं उन्हें अधिक परेशान करती हैं। यही कारण है कि वे मनुष्यों के बीच रहते हैं और अपनी इच्छाओं को पूरा करने की कोशिश करते हैं। इसलिए आम लोगों को उनका ज्यादा सामना करना पड़ता है। लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है। अगर आपको अपने आसपास भूतों की मौजूदगी महसूस होती है, तो घबराने की जरूरत नहीं है। इसका भी एक समाधान है।

हमने आपको पहले भी बताया है कि कैसे पता लगाया जाए कि आपके आस-पास भूत प्रेत मौजूद है। यदि भूत प्रेत की उपस्थिति के बारे में आश्वस्त हैं, तो उनकी रक्षा कैसे करें? आज इसके बारे में बात करेंगे।

वैसे, अगस्त्यस्त्र में अनगिनत प्रयोग और उपाय हैं। जानिए उनमें से 15 जो सबसे सरल हैं आप खुद कर सकते हैं। इन उपायों को चुनने का कारण यह है कि आप इसे स्वयं कर सकते हैं। किसी भी ओझा या तांत्रिक के पास जाने की जरूरत नहीं है।

अधिकांश भूतों या राक्षसों में सामान्य शक्तियां होती हैं। वे अपनी इच्छा और वासना के गुलाम हैं। उन्हें दूर भगाने के लिए ज्यादा उपायों की आवश्यकता नहीं होती है। वैसे, हमारी आत्म-शक्ति बहुत मजबूत है और भूत प्रेत का शिकार करते हैं। जो लोग उनसे डरते हैं वे उन्हें अधिक परेशान करते हैं। यदि आप भूतों से भयभीत नहीं होते हैं और भूत भगाने की भावना से उनका सामना करते हैं, तो भूतों और भूतों की आधी शक्ति वहीं समाप्त हो जाती है।

भूत प्रेत बुरी आत्मा सताए तो ये उपाय आजमाएंः

  • बेल की जड़, देवदार, बबूल और प्रिचंगु लाओ। इन सबको एक साथ पीसकर हवनकुंड में गाय के गोबर के गोले की आग में डाल दें। जब इसका धुआं फैलता है, तो भूत से प्रभावित व्यक्ति को वहां लाएं। यह भूत, पिशाच, राक्षस, ब्रह्मराक्षस, बुरी आत्माओं आदि की बाधाओं को दूर करता है।
  • अगर कोई भूत-प्रेत का शिकार करता है, तो शनिवार को उसकी दाहिनी भुजा में काले धातु की जड़ बांध दें। प्रेत उसे सताने के लिए छोड़ देगा। यदि पीड़ित महिला है, तो धातु की जड़ को उसके बाएं हाथ में बाँध दें।
  • खसखस, चंदन, कंगनी, नागर और लाल चंदन और कोड को मिलाकर एक पेस्ट बनाएं। यह पेस्ट हर प्रकार की भूतिया बाधा को दूर करता है। यदि यह महसूस होता है कि भूत प्रेत घर के आसपास कहीं अपना आश्रय बना रहे हैं, तो सभी को समय-समय पर इस पेस्ट को लगाना चाहिए। आपको इसे ब्यूटी पेस्ट के रूप में लगाना चाहिए। इसमें डाली गई बातें सौंदर्यवादी हैं। इस तरह भूत प्रेत से भी बचाव होगा और त्वचा में भी निखार आएगा।
  • गोरखमुंडी, गोखरू और कत्था को गाय के मूत्र में पीसकर रोगी को पिलाएं। इस पर सवार पिशाच तुरंत भाग जाएगा। यह पिशाचों को भगाने का सबसे तेज़ तरीका है।
    हींग को लहसुन के पानी में पीसें, पीड़ित व्यक्ति को नाक में सूंघें या आंखों में काजल लगाएं। जिसका भी भूत प्रेत का असर दूर होगा।
  • बांकला का एक पाव रोटी (250 ग्राम) और एक मुर्गी का अंडा रोगी के सिर से सात बार उतारें। इसे रात को किसी नदी या तालाब के किनारे रख दें। रोगी निश्चित रूप से ठीक हो जाएगा।
  • पाँच छटाक (लगभग तीन सौ ग्राम) चावल (पूरी), एक पाव दही, एक चौथाई गज़ सफेद कपड़ा। इन सभी चीजों को एक खाली बर्तन में रखें और इसे रोगी से सात बार हटा दें। फिर इसे घर से दूर किसी एकांत स्थान पर खोदकर दफना दें।
  • पाँच प्रकार के काले तिल, सात प्रकार के अनाज, सात डिग्री, सात प्रकार की दालें सात डिग्री, काली उड़द पाँच डिग्री और काले कपड़े डेढ़ गज। इन सभी चीजों को एक काले कपड़े (डेढ़ गज कपड़े के साथ) में बांधें और इसे रोगी को उतारकर घर से दूर भैरों मंदिर में रख दें।
  • एक छोटा चांदी का पुतला (अपना वजन आधे से भी कम वजन), इसके बाद एक पाव चीनी, एक किलो चावल, थोड़ा सा लाल कपड़ा, एक नारियल। पीड़ित से इन सभी चीजों को हटा दें और उन्हें श्मशान में रख दें। यह क्रिया रात को करनी चाहिए।
  • रविवार को तुलसी के पत्ते और कालीमिर्च आठ की संख्या में और सहदेवी की जड़ लेकर आएं। इन तीनों को कपड़े में बांधकर रोगी को गर्दन पर रखें। इसके ऊपर भूत प्रेत बाधा निश्चित रूप से शांत हो जाएगी।
  • रात के समय पीड़ित व्यक्ति के सिर पर एक लोटा पानी रखें। सुबह सात बार रोगी के सिर से कमल का पानी निकाल दें और उसे घर से दूर किसी पीपल के पेड़ के नीचे रख दें। यह क्रिया पूरे सात दिनों तक करनी है। याद रखें कि कोई प्रतिबंध नहीं है और कुछ भी न करें। सुबह कई काम करना संभव है।
  • हनुमान जी के चरणों से थोड़ा सिंदूर लें। उस सिंदूर को चांदी के ताबीज में बांधकर गले में पहनने से भूत-प्रेत और जादू-टोने का भय खत्म हो जाता है।
  • कई भूत प्रेत प्रकृति के होते हैं। यह इस प्रवृत्ति के कारण है कि उन्हें यह योनि मिली है। इस तरह के भूत भूत को उसके आसपास से हटाने का एक सरल तरीका है। डेढ़ गज लाल कपड़ा, लाल चंदन एक तोला, खिचड़ी एक और एक चौथाई किलो, एक किलो पकोड़े – इन चीजों को मिट्टी के बर्तन में रखकर, पीड़ित के सिर से सात बार उतारें। फिर हांडी को रात में किसी चौराहे पर रख दें या अपने लिए रख लें।इसमें एक बात ध्यान देने वाली है। कभी भी हांडी को पीड़ित के ऊपर से न उतारें और बाद में उसे किसी चौराहे पर रख दें। जब आप हांडी को चौराहे पर रखने के लिए तैयार होते हैं, तो इसे पीड़ित व्यक्ति के सिर से ही उतार दें। हांडी को उतारने के बाद घर में नहीं छोड़ना चाहिए। तुरंत छोड़ना होगा। जिस दरवाजे से यह पहले से खुला है, उस दरवाजे को खुला रखें। शिकार पर हाथ ले जाते समय या घर से हाथ निकालते समय, न तो कोई पैंतरेबाज़ी करें, न ही किसी और बच्चे को बड़ा होने दें, इससे पहले कि आप उसकी देखभाल करें।

  • बुरी आत्माओं के लिए हमारे घर में प्रवेश न करने के लिए, दरवाजे पर सिंदूर से राम-राम लिखें और 7 अंक रखें। इससे घर के भूत-प्रेत का प्रवेश नहीं होता है।

  • जब भूत प्रेत की बाधा बहुत तीव्र हो जाती है, तो एक और प्रयोग होता है। काली सरसों, नाग साँप, काले बकरे का दाहिना सींग, नीम की पत्तियाँ, बाचा, अपामार्ग के पत्ते और गुग्गुल का पाउडर लाएँ। यदि प्रेत बाधा से पीड़ित हैं, तो इस पाउडर को जलते हुए शंकु पर डालें और रोगी को दें। रोगी को भूत प्रेत बाधा की पीड़ा से मुक्त किया जाएगा।

Ya wadoodo 100 times benefits


There are many names of Allah and “YA WADOODO” is one of them. The meaning of “YA WADOODO” is the loving one. We all know that no one can love more than the entire world except Allah (SWT). There are many benefits of reciting this name continuously after every namaz. But mostly it is used as Dua or Wazifa for love.

Using Dua and wazifa Allah blessed you and through them. You can achieve anything in your life. “YA WADOODO” can help you to get back love in your life. Love has many forms, the love of parents, siblings, your partner, or person you love the most. As previously mentioned, “YA WADOODO” means the loving one, so this particular name of Allah can help you bring back love in your life. If your relationship with lover is not going good then you should remember Ya Wadoodo for love. No matter you want love from your parents, siblings, friends, and the special person. This name will help in you these entire situations.

To bring love back in your life recite “YA WADOODO” for 12500 times for 40 days. Pray to Allah (SWT) with pure intentions. You can recite this wazifa any time after any namaz. Reciting the “YA WADOODO” for love back is not difficult. You can achieve your aim through this easily.

There are high chances of failing because of your inner thoughts you had while performing this Wazifa. It can also happen because of unknown mistakes you made while performing this wazifa. Make sure you are doing wazifa for love, and you must not have any evil thoughts while reciting “YA WADOODO.” Allah Always listens to your all Duas, and if he doesn’t fulfill your any Dua, he surely will reward you for Dua. Before making any Dua, you should have faith in Allah (SWT) that he knows what will be the best for you. You should please Allah (SWT) every decision and hope for the best.

ya wadoodo for love between husband and wife

Marriage life is full of ups and down. In most of the families, men or women in our culture has to make several compromises to make her marriage work. To make a good relationship between husband and wife, love, trust, understanding, and respect is required. If you have these factors in your relationship, then you are the happiest person in the world.

ya wadoodo for love

On the other hand, if husband and wife don’t have a good relationship, then you see hell on earth. To make the bond between both of you, just trust on ya wadoodo for love between husband and wife. First of all, both the partners need to work on their relationship to make their love long lasting. Husband and wife need Duas to make their relationship stronger and to live their life with joy and happiness but sometimes they lost their relationship due to some problems in their life. If your husband or wife is not listening to yourself, then you can put this thing on Allah Almighty and make the Dua’s and with the help of Dua, you will surely get the benefit.

Dua is the only weapon which can be the predominant response for every issue. You can recite “YA WADOODO” to create love between wife and husband. Recite “YA WADOODO”. For 11 days 12500 times and on the 11th day, blow it on the glass of water and make your partner drink it. This will work best for you and it will eliminate all problems from your married life.

Ya Wadoodo for Love Marriage

“YA WADOODO” is one of the powerful name of Allah. It has the power even to make wild animals obedient. It can help you in many rough situations with your partner, parents, siblings and friends. Everyone falls in love at least once in his/her life and wants to get married and spend their life with the person they love. In our society love marriage is not considered as good as arrange marriage.

If you really love the person you should talk to your parents about him/her as soon as possible. It happens in our culture that parents mostly do not agree on our choice for girl/boy. If your parents are not agreeing with you after all your efforts, you should recite the phrase “Ya Wadoodo for love marriage“. Islam has given you the right to choose your soul mate.

The Wazifa of “YA WADOODO” can help you in this situation and through this you can ask for help from Allah (SWT). Recite Surah Al-Fatiha 41 times after the prayer of isha. After that recite “YA WADOODU” 59 times and make Dua to Allah (SWT) for your aim. Recite Durood Shareef in the start and also in the end. For the success of any wazifa it is necessary to pray five times a day and make Dua with true intentions.

Ya Wadoodo wazifa for Lost love

Nowadays, relationships end because of many situation or even if relationship does not end, love gets vanished from the relationship. After breakup some people move on but for some people it is very difficult to forget the person and move on.

In this situation you must take help from Ya Wadoodo wazifa for lost love back in your life. You just have to make wazifa for help. If situation is not in favor of you, pray to Allah almighty and he will make things easy for you.

Pray five times a day and recite Quran-e-Pak as much as you can.
After offering the prayer of Isha recite Durood shared thrice
Then recite “YA WADOODU” “YA RAOFO” “YA RAHIMO” and make Dua to Allah (SWT) for your aim.
Recite Durood shreef 3 times in the start and also in the end.
Do this wazifa on every Thursday and during performing this dua think about the person you want back.

FAQ’s

What does ya Wadoodo mean?

the loving one
There are many names of Allah and “YA WADOODO” is one of them. The meaning of “YA WADOODO” is the loving one. … As previously mentioned, “YA WADOODO” means the loving one, so this particular name of Allah can help you bring back love in your life.

What is Wazifa love?

Wazifa to Create Love in Someone’s Heart

It is an amazing way for those people, who love someone and want to spend the life with him/her. All the people believes that love is blind and it can’t be controlled. It is to be considered as an emotion and can be only controlled by Allah’s prayer for someone.

How many times recite Ya Wadudu?

Ya Lateefu Meaning

Recite this wazifa for 21 days and soon you will get married. Recite it after performing the namaz of Maghrib. Start with Durood Shareef 11 times. Then recite “Ya Latifu Ya Wadudu” 800 times.